जनरल विपिन रावत को मिला रक्षा मंत्री मनोहर परिर्कर खुला समर्थन, आतंकियों की मदद करने वाले कश्मीरियों से जैसे चाहेगी वैसे निपट सकती है सेना –

0
541

manohar-parrikar

नईदिल्ली- सेना प्रमुख विपिन रावत के उस बयान को अब केंद्रीय रक्षा मंत्री श्री मनोहर परिर्कर का खुला समर्थन मिल गया है जिसमें उन्होंने कहा था कि सेना आतंकियों की मदद करने वाले कश्मीरियों में अपने मन मर्जी निपटने के लिए फ्री है | सतह ही उन्होंने अपने बयान में यह भी कहा था कि जो लोग भी आतंकियों की घाटी में मदद कर रहे है उन्हें बचाने की कोशिश कर रहे है सेना उनके साथ जैसे भी चाहे उस तरह से निपट सकती है | इसके लिए सेना को किसी से भी कोई भी आदेश लेने की जरुरत नहीं है सेना इसके लिए आज़ाद है |

बता दें कि सेना प्रमुख विपिन रावत का यह बयान उस घटना के बाद आया था जिसमें कश्मीर घाटी के बांदीपुरा इलाके में एक ओपरेशन के वक्त जब सेना के जवान पोजीशन ले रहे थे तभी गाँव के कुछ आतंकी हिमैतियों ने सेना के जवानों के ऊपर भीषण पत्थरबाजी शुरू कर दी थी जिसके बाद सेना के जवानों के ऊपर फायरिंग करने के लिए आतंकियों को मौका मिल गया था और इसमें सेना के तीनों जवान शहीद हो गए थे साथ ही सीआरपीएफ एक अफसर सहित कुछ अन्य जवान घायल हो गए थे |

इस घटना के बाद ही गुस्से में आये जनरल विपिन रावत ने कहा था कि, जम्मू कश्मीर में स्थानीय लोग जिस तरह से सुरक्षा बलों को अभियान संचालित करने में रोक रहे हैं उससे अधिक संख्या में जवान हताहत हो रहे हैं तथा ‘कई बार तो वे आतंकवादियों को भागने में सहयोग करते हैं।’ साथ ही उन्होंने कहा था, ‘हम स्थानीय लोगों से अपील करते हैं कि अगर किसी ने हथियार उठा लिए हैं और वह स्थानीय लड़के हैं। अगर वे आतंकी गतिविधियों में लिप्ट रहना चाहते हैं, आईएसआईएस और पाकिस्तान के झंडे लहराते हैं तो हम लोग उन्हें राष्ट्र विरोधी तत्व मानेंगे और उनके खिलाफ एक्शन लेंगे।’

सेना प्रमुख के इस बयान के बाद राजनैतिक गलियारों में हलचल होना लाज़मी ही था और हुआ भी ऐसा हुआ कुछ | सेना प्रमुख के बयान के बाद कश्मीर घाटी की पूर्व सत्ताधारी पार्टी नेशनल कांफ्रेंस के प्रमुख नेता और प्रवक्ता जुनैद अजीम मुत्तु ने बेहद दुर्भाग्यपूर्ण बताया था और कहा था कि सरकार को इस तरह की धमकियों के बजाय राजनैतिक तरीके से बातचीत कर मामले का हल निकालने की कोशिश करनी चाहिए |

सेना प्रमुख को मिला केंद्रीय गृहराज्य मंत्री किरन रिजेजू का साथ-

उधर सेना प्रमुख के इस बयान के समर्थन में उतरे केंद्रीय गृहराज्य मंत्री श्री किरण रिजेजू ने कहा था कि सेना प्रमुख ने कुछ भी गलत या फिर आपत्तिजनक नहीं कहा है | उन्होंने आगे कहा कि, पथराव करने वालों और उन सभी के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए जो राष्ट्रीय हित के खिलाफ काम करते हैं क्योंकि राष्ट्रीय हित सर्वोपरि है। जनरल रावत ने जो भी कहा है, उन्होंने राष्ट्रीय हित में कहा है। उसकी गलत व्याख्या करने की कोई जरूरत नहीं है। सेना प्रमुख के बयान में कुछ भी गलत नहीं है।’

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY