अपटा कांड की जाँच सी.बी.आई. से करायी जाये : ओपी यादव

0
328

रायबरेली (ब्यूरो) यादव महासभा तहसील ऊँचाहार के अध्यक्ष ओपी यादव एडवोकेट ने उत्तर प्रदे के मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ को पत्र भेजकर अप्टा कांड की सीबीआई जाँच कराये जाने की माँग की है।

मुख्यमन्त्री को भेजे गये पत्र में लिखा है कि अ.सं.-0285 सन् 2017 अन्तर्गत धारा-302, 307, 147, 148, 149, 506, 427, 120बी आईपीसी एवं धारा-7 अपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम 1932 थाना ऊँचाहार, जिला रायबरेली की विवेचना थाना पुलिस द्वारा जिस प्रकार सरकार के दबाव में एकपक्षीय की जा रही है, उससे घटना की तस्वीर साफ नहीं हो रही है। विवेचना में तथ्यों को तोड़ा मरोड़ा जा रहा है। इस बात को पूरी तरह से नजरन्दाज किया जा रहा है कि आखिर प्रतापगढ़ जिले के चार व्यक्ति एवं कौशाम्बी का एक व्यक्ति 26 जून 2017 को रात आठ बजे इटौरा बुजुर्ग के ग्राम प्रधान के घर पर क्या करने आये थे। ग्राम प्रधान के द्वारा कई राउन्ड फायरिंग क्यों की गयी। साक्ष्य के रूप में ग्राम प्रधान के दरवाजे की दीवालों पर लगे गोली के निशान इसके प्रमाण है। सभी मृतकों का आचरण अपराधिक पृष्ठ भूमि का है। वाहन से भागने पर वाहन से दुर्घटना में घायल अमृत लाल पाल का मुकदमा नहीं लिखा गया। वाहन में रखे विस्फोटक सामग्री के कारण वाहन बिजली के खम्भे से लड़ा और वाहन में आग लग गयी। आक्रोशित ग्रामीणों की भीड़ ने गुस्से में भाग रहे बदमाशों की पिटाई की और वह मर गये। ये सभी बदमाश घटना वाले दिन विधायक के साथ थे। इन सभी बदमाशों को विधायक एवं मुकदमा वादी देवेश पाण्डेय के सीडीआर से पूरी घटना का पर्दाफाश हो सकता है, जिसे विवेचक द्वारा नहीं किया जा रहा है। ऐसी स्थिति में विवेचना पुलिस द्वारा निष्पक्ष होना सम्भव नहीं है।

मुख्यमन्त्री से माँग की गयी कि घटना की सीबीआई से जाँच कराई जाये। ग्राम प्रधान रामश्री के प्रार्थना-पत्र पर मुकदमा दर्ज कराया जाए, बदमाशों के वाहन से घायल हुए अमृत लाल प्रजापति की प्राथमिकी दर्ज की जाए

रिपोर्ट – अनुज मौर्य

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here