डेंगू की रोकथाम के लिए प्रशिक्षण शिविर का आयोजन

0
46

खीरों/रायबरेली (ब्यूरो)- विकास क्षेत्र खीरों के ब्लॉक संसाधन केन्द्र में शुक्रवार को डेंगू की रोकथाम के उद्देश्य से प्रशिक्षण शिविर का आयोजन हुआ । जिसमें विकास क्षेत्र के सभी प्राथमिक, जूनियर एवं माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाचार्यों और शिक्षकों को डेंगू बीमारी के होने के कारणों और बचाव के बारे में प्रशिक्षित किया गया ।

प्रशिक्षक खण्ड सामुदायिक प्रक्रिया प्रबन्धक अशोक कुमार यादव ने शिविर में मौजूद सभी शिक्षकों को बताया कि डेंगू नामक बीमारी एडीज़ नामक मच्छर के काटने से होती है । इस मच्छर के लार्वा साफ पानी में पैदा होते हैं और यह मच्छर दिन में काटता है । घरों के आस-पास नाली या गड्ढों में, छत पर पडे किसी पुराने बर्तन, टायर, खाली डिब्बा इत्यादि में पानी जमा न होने दें । सभी लोग अपने घरों के कूलरों में साफ पानी का प्रयोग करें और उसे सप्ताह में एक बार रविवार को ड्राई डे के रूप में मनाते हुये साफकर सुखाएँ ।

इस मच्छर की उड़ान मात्र डेढ़ मीटर ही होती है । जहाँ भी पानी या कीचड़ एकत्र हो वहाँ मिट्टी का तेल या जला हुआ मोबिल ऑयल डालें । डेंगू के मरीज का सरकारी अस्पताल में ही इलाज का कराएं । कभी भी झोला छाप डाक्टरों से इलाज न कराएं । रात में सभी लोग मच्छरदानी का प्रयोग करें । इस दौरान प्रशिक्षक स्वास्थ्य पर्यवेक्षक सुखराम ने बताया कि खीरों ब्लॉक की सभी 60 ग्राम पंचायतों में छिड़काव के लिए ब्लॉक मुख्यालय में खण्ड विकास अधिकारी को टेमोफाश दवा उपलब्ध करा दी गई है । जिसका ग्राम विकास अधिकारियों के माध्यम से गाँवों में छिड़काव कराया जाएगा ।

प्रशिक्षक डॉ दिव्य प्रकाश श्रीवास्तव ने बताया कि यह सारी जानकारी प्रतिदिन सभी शिक्षक विद्यालय में प्रार्थना सभा में विद्यालय के बच्चों को बताएं और समाज को जागरूक करें । साथ ही विद्यालय के बच्चों को पूरी बाँह के कपड़े पहन कर और सरसों का तेल लगाकर विद्यालय आने को कहें । सभी शिक्षकों ने यह माँग भी उठाई कि हर विद्यालय में फस्ट एड बाक्स उपलब्ध कराया जाए । जिससे बच्चों की प्राथमिक चिकित्सा विद्यालय स्तर पर की जा सके ।

रिपोर्ट- आशीष शुक्ला

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY