नीरज हत्याकांड में पूर्व डिप्टी डायरेक्टर ने डबलू मिश्रा को पहचाना

0
67


धनबाद (ब्यूरो) पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह समेत चार लोगों की हत्या में सरायढेला पुलिस को बड़ी सफलता मिली है।नीरज सिंह की हत्या में शूटर ने जिस बाइक का उपयोग किया था उसे बरामद कर लिया गया है। 21 मार्च की देर रात को ही पुलिस ने गोविंदपुर स्थित ओरियंटल बैंक के समीप से बाइक की बरामदगी की। मामले में गोविंदपुर थाना में सनहा दर्ज है। धनबाद से अपर दंडाधिकारी प्रकाश कुमार की मौजूदगी में गोविंदपुर थाना में जब्त बाइक की पहचान कराई गई। कुसुम विहार निवासी सीएफआरआई के रिटायर्ड डिप्टी डायरेक्टर राम अहलाद राय व उनकी पत्नी ने थाने में बाइक की पहचान की। थाने में खड़े दर्जनों बाइकों के बीच में दो बाइक की पहचान कर दंपति ने पुलिस को बताया कि उसके घर किराए पर रहने वाले चारों युवक की ही दोनों बाइक है।

कुसुम विहार में शूटरों के ठहराने के आरोपी मृत्युंजय गिरि उर्फ डबलू मिश्रा को मकान मालिक और उनकी पत्नी ने पहचान लिया। जेल के अंदर टेस्ट आइडेंटिटी (टीआई) परेड के दौरान 10 बंदियों के बीच खड़े डबलू को देखते ही सिंफर के पूर्व डिप्टी डायरेक्टर रामअह्लद राय और उनकी पत्नी उमदा देवी ने पहचान लिया। पति-पत्नी ने मजिस्ट्रेट को बताया कि इसी ने अपना नाम मुन्ना बताकर मकान किराए पर लिया था। पहचान के के दौरान दंपती ने न्यायिक दंडाधिकारी अर्पित श्रीवास्तव को बताया कि मुन्ना की भाषा उनके क्षेत्र की थी, इसलिए उन लोगों ने उस पर विश्वास कर लिया और मकान किराए पर दे दिया था। सरायढेला थानेदार सह केस के आइओ निरंजन तिवारी ने सीजेएम राजीव रंजन की अदालत में एक आवेदन देकर डबलू मिश्रा की पहचान परेड कराने की अनुमति मांगी थी। आइओ की अर्जी पर सीजेएम ने प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी अर्पित श्रीवास्तव को टीआइ परेड के लिए प्रतिनियुक्त किया था। कानून के जानकारों की मानें तो डबलू के पहचान से अभियोजन का पक्ष मजबूत हुआ है। इससे पहले नौ मई को प्रत्यक्षदर्शी गवाह होने का दावा करने वाले आदित्य राज ने कथित शूटर अमन सिंह की पहचान जेल में की थी। गोविंदपुर थाने में है शूटरों की बाइक नीरज सिंह की हत्या के दिन शूटरों ने जिन दो बाइकों का इस्तेमाल किया था वे बाइक गोविंदपुर थाने में खड़ी है। इसका खुलासा तब हुआ जब आइओ निरंजन तिवारी ने सीजेएम को अर्जी देकर दोनों बाइकों की पहचान आरए राय और उनकी पत्नी के कराने की मांग की। आइओ ने अर्जी में बताया है कि हत्या में प्रयुक्त लाल रंग की पैशन प्रो (जेएच10एस-4677) और ग्रे रंग की स्प्लेंडर (जेएच10एएल-0408) गोविंदपुर में ओरिएंटल बैंक के पास लावारिस अवस्था में मिली थी। जांच में पता चला था कि हत्या के बाद इन दोनों बाइकों को गोविंदपुर में छोड़ कर शूटर दूसरी वाहन से भागे थे। इन बाइकों को कुसुम विहार के किराए के घर में भी रखा गया था।

रिपोर्ट – गणेश कुमार

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY