अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर विभिन्न योग क्रियाओं का आयोजन

0
53

मैनपुरी (ब्यूरो) मैनपुरी सुदिती ग्लोबल एकेडमी, मैनपुरी में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आज विभिन्न यौगिक क्रियाओं का आयोजन किया गया।
ज्ञातव्य है कि आज का दिन समूचे विश्व में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। हमारे देश के वर्तमान प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी जी के अथक् प्रयासों के फल स्वरूप संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मान्यता प्रदान की जा चुकी है। विश्व के सभी देशों ने योग की महत्ता को स्वीकार करते हुए इसे अपनाने का निर्णय लिया है। योग की प्रतिष्ठा भारत को एक बार पुनः विश्व गुरु बनाने की दिशा में एक सार्थक कदम है।

इसी क्रम में शहर की संस्था सुदिती ग्लोबल एकेडमी, मैनपुरी में भी अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस हर्षोल्लास एवं पूर्ण उत्साह के साथ मनाया गया। प्रातः 7 बजे से छात्रों, अध्यापकों एवं स्कूल के सभी कर्मचारियों ने विद्यालय के प्रार्थना सभागार में एकत्रित होकर विद्यालय की योगा शिक्षिका नेहा पाण्डेय के निर्देशन में योग क्रियाओं एवं आसनों का प्रदर्शन किया।
योग दिवस के अवसर पर विद्यालय के वरिष्ठ प्रधानाचार्य डा. राम मोहन ने योग की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए बताया कि योगासनों का सबसे बड़ा गुण यह है कि वे सहज, साध्य और सर्वसुलभ हैं। योगासन ऐसी व्यायाम पद्धति है जिसमें न तो कुछ विशेष व्यय होता है और न इतनी साधन-सामग्री की आवश्यकता होती है। योगासन अमीर-गरीब, बूढ़े-जवान, सबल-निर्बल सभी स्त्री-पुरुष कर सकते हैं। आसनों में जहां मांसपेशियों को तानने, सिकोड़ने और ऐंठने वाली क्रियायें करनी पड़ती हैं, वहीं दूसरी ओर साथ-साथ तनाव-खिचाव दूर करने वाली क्रियायें भी होती रहती हैं, जिससे शरीर की थकान मिट जाती है और आसनों से व्यय शक्ति वापिस मिल जाती है। शरीर और मन को तरोताजा करने, उनकी खोई हुई शक्ति की पूर्ति कर देने और आध्यात्मिक लाभ की दृष्टि से भी योगासनों का अपना अलग महत्त्व है। आगे उन्होंने योग एवं प्राणायाम के बारे में उपस्थित जन समुदाय को परिचित कराते हुए कहा कि विद्यार्थी जीवन के लिए प्राणायाम का विशेष महत्व है क्योंकि प्राणायाम से मनुष्य के अन्दर एकाग्रता एवं आत्मविश्वास का उदय होता है, जो व्यक्ति को सफलता के अंतिम सोपान तक पहुँचाने के लिए अत्यन्त आवश्यक है।

कार्यक्रम में विद्यालय की प्रशासनिक प्रधानाचार्य डा. कुसुम मोहन, प्रबप्ध निदेशक लव मोहन, अध्यापक राधा रमण तिवारी, आर. एस. चैहान, शिवम् मित्तल, ममता चैहान, ममता भारद्वाज, शैफाली शुक्ला, रितु कुशवाह, चित्रा सिंह, नीलम मिश्रा, मंजू मिश्रा, हरिबिलास, गौरव तिवारी, भवानी सिंह, दीपक उपाध्याय, अजित सिंह, रणधीर सिंह, समेत अनेक अध्यापक-अध्यापिकाएं, विद्यार्थी एवं कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

रिपोर्ट – दीपक शर्मा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY