कांग्रेस छोड़ने वाले पूर्व विधायक विश्वजीत राणे ने दिग्विजय सिंह पर साधा निशाना कहा दिग्विजय सिंह को अब राजनीति छोड़ देनी चाहिए

0
109

पणजी – गोवा के पूर्व विधायक विश्वजीत राणे ने कांग्रेस के शीर्ष नेता दिग्विजय सिंह पर निशाना साधा है। राणे ने दिग्विजय सिंह पर निशाना साधते हुए कहा है कि दिग्विजय सिंह को राजनीति छोड़ देनी चाहिए, उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह को अब देश की एक्टिव राजनीति से संयास ले लेना चाहिए। दरअसल आपको बता दें कि हाल ही में गोवा में संपन्न हुए चुनाव के बाद कांग्रेस आलाकमान ने गोवा में सरकार बनाने में जिस तरह से देरी की है उससे नाराज होकर ही विश्वजीत राणे ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है।

बहुमत परीक्षण के दौरान भी विधानसभा में नहीं उपस्थित हुए थे राणे
आपको बता दें कि गोवा में हुए बहुमत परीक्षण के दौरान भी विश्वजीत राणे विधान सभा में उपस्थित नहीं हुए थे जबकि कांग्रेस की तरफ से व्हिप जारी कर हर एक विधायक को विधानसभा में बहुमत परीक्षण के मौके पर उपस्थित रहने के निर्देश दिए गए थे।

कांग्रेस आलाकमान से नाराज होकर छोड़ी पार्टी-
विश्वजीत राणे के कांग्रेस से इस्तीफा देने के पीछे सबसे बड़ा जो कारण सामने आ रहा है वह यह है कि विश्वजीत राणे कांग्रेस आलाकमान की धीमी रफ्तार से खासा नाराज थे। बताते चलें की विश्वजीत राणे गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री प्रताप सिंह राणे के बेटे हैं, राणे ने अपने बयान में गोवा में हुई कांग्रेस विधायक दल की बैठक पर सवाल खड़े करते हुए उसे एक मजाक करार दिया है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक काफी देर तक चली लेकिन पूरे दिन तक चली लेकिन इस बैठक में कोई भी फैसला नहीं लिया जा सका जबकि दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए दिल्ली में अपने नेताओं से बातचीत की और बिना कोई वक्त गवाएं तत्काल गठबंधन का फैसला किया। राणे ने कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व पर सवाल उठाते हुए कहा कि जिसका नतीजा आप सभी के सामने है, गोवा में मनोहर परिकर की अगुवाई वाली सरकार बन चुकी है। आपको बता दें कि गुरुवार को ही परिकर की सरकार ने विधानसभा में बहुमत हासिल किया था सरकार के पक्ष में यहां 22 और विपक्ष में 16 विधायकों ने मतदान किया है।

गोवा में बन सकती थी कांग्रेस की सरकार-
विश्वजीत रानडे ने कांग्रेस आलाकमान की क्षमता पर सवाल उठाते हुए कहा है की बहुमत के बेहद करीब होने के बाद भी पार्टी की ओर से सरकार बनाने के लिए कोई सकारात्मक पहल नहीं की गई। विश्वजीत राणे के मुताबिक यह कांग्रेस आलाकमान की बहुत बड़ी गलती है उन्होंने कहा कि मैं यह नहीं जानता कि दिग्विजय सिंह वास्तव में किस तरह से गोवा में सरकार बनाने की कवायद में जुटे हुए थे लेकिन उनके रवैया को देखते हुए यह साफ लग रहा था कि वह गोवा में सरकार बनाने में वे कोई भी विशेष दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं, नतीजा यह रहा कि कांग्रेस आलाकमान सिर्फ विचार करता रहा और बहुमत से काफी पीछे खड़ी भारतीय जनता पार्टी ने सूबे में अपनी सरकार बना ली है।

गोवा फॉरवर्ड कांग्रेस को अपना समर्थन दे सकता था
: राणे
पूर्व विधायक ने कांग्रेस नेतृत्व की कार्यशैली पर चुटकी लेते हुए कहा है कि बीजेपी ने जब अपने सहयोगी दलों के समर्थन का दावा सूबे के राज्यपाल को सौंपा तो कांग्रेस पार्टी को होश आया लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। अगर राणे की माने तो गोवा फॉरवर्ड पार्टी ने कांग्रेस की ओर समर्थन का हाथ बढ़ाया था हालांकि गोवा फॉरवर्ड पार्टी के विधायक दिगंबर कामत को विधायक दल का नेता चुनने की मांग कर रहे थे लेकिन पार्टी की ओर से जीऍफ़पी से भी बातचीत करने में काफी समय लगा जिसके वजह से उन्होंने सरकार बनाने का देश कीमती वक्त गवा दिया।

अगर मैं जीता तो करुंगा मनोहर परिकर का समर्थन

विश्वजीत राणे ने आज गोवा में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा है कि यदि मैं आने वाले समय में होने वाले चुनाव में जीतता हूं तो मैं मनोहर परिकर का समर्थन करूंगा उन्होंने तर्क देते हुए कहा की लोगों की हम से काफी अपेक्षाएं होती हैं यदि मैं जीतता हूं तो मैं विपक्ष में नहीं बढ़ सकता, मैं अपना समय बर्बाद करने के लिए या सत्ताधारी पार्टी के नेताओं का विरोध करने के लिए सदन में नहीं आता हूं, सहारा प्रमुख काम गोवा और वहां के लोगों की अपेक्षाओं पर खरा उतरना होता है और यह हमारा नैतिक धर्म भी है कि हम उन्हें पूरी करें और 5 साल लोगों की जमकर सेवा करें।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY