परिश्रम कभी व्यर्थ नहीं जाता : डी. के. श्रीवास्तव

0
73

शिवगढ़/रायबरेली(ब्यूरो)- बैंक आॅफ बड़ौदा शाखा बैंती के शाखा प्रबन्धक डी0 के0 श्रीवास्तव को नम आॅखो से भावभीनी विदाई दी गयी।\

विदित हो कि बैंक आॅफ बड़ौदा की बैंती शाखा के शाखा प्रबन्धक डीके श्रीवास्तव का धरई शाखा में ट्राॅसफर हो गया है । बैंती शाखा को खुले हुए तीन वर्ष से अधिक समय गुजर चुका है। तीन वर्ष पूर्व बहुत ही विषम परिस्थियों में शाखा प्रबन्धक डीके श्रीवास्तव द्वारा एक छोटे से जर्जर कमरे से मात्र एक कुर्सी और मेज के सहारे बिना किसी स्टाप के शाखा की शुरुआत की गयी थी। बैंक समय में ग्रामीणों एवं व्यापारियों के डोर टू डोर जाकर विनम्रतापूर्वक बात करके खाते खोलना फिर बैंक आॅफ बड़ौदा की बेड़ारु शाखा में खाते खुलवाना शाखा प्रबन्धक की दिनचर्या बन गयी थी। किन्तु कठिन परिश्रम एवं दृढ़ निश्चय के चलते कभी हार नही मानी, दिनों दिन बढ़ते खातों के परिणाम कुछ समय पश्चात कम्प्यूटर फर्नीचर एवं कैशियर की तैनाती हो गयी।

शाखा प्रबन्धक की कड़ी मेहनत के परिणाम स्वरुप 3 वर्षों में लगभग 4 हजार उपभोक्ताओं ने बैंती शाखा से बेहतरीन रिश्ता जोड़ लिया। बल्कि उपभोक्ताओं की मांग पर बैंती शाखा को एक किराये की बेहतरीन बिल्डिंग भी मिल गयी। शाखा प्रबन्धक से सभी से नम आॅखों से विदाई लेते हुए कहा, “परिश्रम कभी व्यर्थ नही जाता। वक्त को बेनूर बना देता है, थोडे से जख्म को नासूर बना देता है, कोई जुदा नही होना चाहता अपनो से, लेकिन वक्त सबको मजबूर बना देता है।” बीओबी की बैंती शाखा में तीन वर्षों से तैनात शाखा प्रबन्धक डीके श्रीवास्तव का छतोह ब्लाक की धरई शाखा में ट्रान्सफर हो गया है।

क्षेत्र के व्यापारियों एवं बैंक उपभोक्ताओं ने शाखा प्रबन्धक को खेवनहार की संज्ञा देते हुए कहा कि एक चुनौती भरे माहौल एवं विषम परिस्थितियों में शाखा को चलाकर सभी को शाखा से जोड़ने का काम किया।विदाई समारोह कि अध्यक्षता कर रहे ग्राम प्रधान जानकी शरण जायसवाल, अमित गुप्ता, पवन बाजपेई, सह प्रबन्धक निशान्त किशोर, हेड कैशियर कुलदीप मडि, मनोज त्रिवेदी, रामदयाल, मानिकराम गुप्ता, दिनेश सिंह, रामगोपाल जायसवाल, रामनरायन विश्वकर्मा, राजकुमार गुप्ता, सुनील शुक्ला, दिनेश जायसवाल, राजकुमार अवस्थी, संजय गुप्ता, अंगद राही, विजय यादव, बबुन अवस्थी सहित सैकड़ो की संख्या में लोग मौजूद रहे।

रिपोर्ट- विनय सिंह चौहान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here