जिला प्रशासन कागजों पर जला रहा अलाव

0
59

बलिया।  प्रदेश समेत जनपद में सर्दी का कहर चरम पर है। लगातार चल रही शीत लहर से एक और जहाँ जन जीवन हलकान है वहीं दूसरी ओर मवेशियों की जान पर भी सहमत बन आई है। हालांकि शहरी एवं देहात क्षेत्रों में ठंड से बचाव के लिए प्रदेश सरकार ने अलाव जलाने के लिए बकायदा धनराशि मुहैया कराई है और इसका जिम्मा जिला प्रशासन के माध्यम से तहसील प्रशासन को सौंपा है। बावजूद इसके तहसील प्रशासन द्वारा निरंतर कागजों में ही अलाव जलाया जा रहा है जिससे आम जनमानस व समाज का दीन हीन तबका ठिठुरन को मजबूर है।

जिला प्रशासन और नगर पालिका प्रशासन की दांवों पर विश्वास करें तो शहर समेत बलिया तहसील क्षेत्र में अबतक बत्तीस स्थानों पर अलाव जलाने की व्यवस्था की गई है। लेकिन शहर के रेलवे स्टेशन समेत रोडवेज बस स्टेशन, शहीद पार्क चौक, बाबा बालेश्वर नाथ मंदिर परिसर, जापलिंनगंज स्थित नया चौक, महर्षि भृगु मंदिर परिसर, जिला अस्पताल परिसर आदि स्थानों पर अलाव का आभाव जिला प्रशासन के दावे की पोल खोल रहा है ।साथ ही नगर पालिका चेयरमैन और उनकी टीम की संवेदनहीनता को भी उजागर कर रहा है। यह अलग बात है कि शहर के समाजसेवी लक्ष्मी पंडित ने ठंड से बचाव के लिए गरीबों एवं जरूरतमंदों में एक ओर जहाँ गर्म वस्त्रों का वितरण किया वहीं दूसरी ओर बाबा बालेश्वर नाथ मंदिर परिसर लगायत रेलवे स्टेशन परिसर समेत शहर के अन्य सार्वजनिक स्थानों पर बकायदा अलाव जलाया और लोगों को ठंड से बचाव का संसाधन मुहैया कराया। इसके उलट जिला प्रशासन ढोल पीटने में कोताही नहीं बरत रहा कि प्रशासनिक अधिकारियों/ कर्मचारियों की तत्परता की वजह से सरकार द्वारा ठंड से बचाव के लिए चलाई जा रही योजना पूरी तरह सफल है।

By-Ajit Ojha

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here