जिला स्वास्थ्य समिति की जिलाधिकारी ने की समीक्षा एवं दिये आवश्यक दिशा- निर्देश

0
46

अमेठी (ब्यूरो)- जिलाधिकारी शकुंतला गौतम ने कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक की बैठक में जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया कि गर्भवती महिलाओं का प्रसव प्राइवेट अस्पतालों में ना कराया जाए बल्कि सरकारी अस्पतालों में ही कराया जाए। उन्होंने कहा कि सरकारी अस्पतालों में प्रसव कराने हेतु आशा, आंगनवाड़ी कार्यकत्रियां गर्भवती महिलाओं को प्रेरित करें और सरकार द्वारा संचालित योजनाओं के विषय में उनको जानकारी उपलब्ध कराएं।

जिलाधिकारी ने आयुष्मान भारत की समीक्षा के दौरान प्रधानमंत्री द्वारा हस्ताक्षरित कार्ड लाभार्थियों को न उपलब्ध कराने पर एमओआईसी अमेठी जेएसबी सिंह, एमओआईसी शुकुल बाजार शैलेश गुप्ता, एमओआईसी भादर अजय मिश्रा, एमओआईसी भेटुआ रामप्रसाद, एमओआईसी गौरीगंज राकेश सक्सेना, एमओआईसी जामो संदीप चौरसिया, एमओआईसी संग्रामपुर पीके उपाध्याय तथा बैठक में अनुपस्थित रहने पर एमओआईसी सिंहपुर संतोष कुमार, एमओआईसी तिलोई दयाल श्रम दुबे को माह नवंबर के वेतन पर रोक लगाने के साथ ही शत प्रतिशत कार्ड एक्टिवेशन करके लाभार्थियों को वितरित करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने आशा रिर्पोटिंग कार्यक्रम के दौरान सबसे फिसड्डी संग्रामपुर, तिलोई, फुरसतगंज, जामो और जगदीशपुर के एमओआईसी को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि आशा रिपोर्टिंग कार्यक्रम 95% तक ले जाएं।

उन्होंने सभी सीएचसी व पीएचसी के जननी सुरक्षा गार्डों की दीवारों पर पिंक कलर, एलईडी तथा पर्दे लगवाने के साथ ही सभी जगह अग्निशमन यंत्र की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने नियमित टीकाकरण अभियान को 81% से बढ़ाकर 100% करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि जिन आशाओं के मानदेय का भुगतान समय से नहीं किया जाता हो उनका भुगतान समय सीमा के अंदर ही कर दिया जाए। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी मनोज कुमार, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा आर एम श्रीवास्तव, जिला कार्यक्रम अधिकारी सरोजनी देवी, जिला विद्यालय निरीक्षक नंदलाल गुप्ता, सहित समस्त ऐसी मौजूद रहे

रिपोर्ट- विश्वनाथ उर्फ विक्रम भदौरिया 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here