संचालित मान्यता प्राप्त, गैर मान्यता प्राप्त विद्यालयो की सूचीं तत्काल उपलब्ध कराये: जिलाधिकारी

0
86

मैनपुरी(ब्यूरो) : खण्ड शिक्षा अधिकारी अपने अपने क्षेत्र में संचालित मान्यता प्राप्त, गैर मान्यता प्राप्त विद्यालयो की सूचीं तत्काल उपलब्ध कराये, जनपद में कहीं भी बिना मान्यता मानक पूर्ण किये विद्यालय का संचालन मिला तो एबीएसए सीधे तौर पर जिम्मेदार होगें| सुनिश्चित किया जाये कि अवैध स्कूलों का संचालन किसी भी दशा में न हो, शिक्षको की समय से उपस्थिति सुनिश्चित हो, शैक्षिक स्तर को सुधारा जाये, विद्यालयो में पंजीकृत बच्चों की उपस्थिति बढ़ाई जाये, मध्याह्न भोजन मीनू के अनुसार उत्तम क्वालिटी का बने, विद्यालयों की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाये।

शैक्षिक सत्र 2017-18 में आऊट आफ स्कूल बच्चों के चिन्हांकन हेतु घर-घर सर्वे का कार्य पूरी ईमानदारी से किया जाये। पंजीकरण बढ़ाने के चक्कर में किसी भी दशा में फर्जी पंजीकरण न हो, यदि किसी भी विद्यालय में फर्जी पंजीकरण मिला तो संबंधित शिक्षक के साथ खण्ड शिक्षाधिकारी के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही होगी।उक्त निर्देश जिलाधिकारी यशवन्त राव ने विद्यालयो के छूटे बच्चों के पंजीकरण की बैठक के दौरान दिये। उन्होने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी सहित सभी खण्ड शिक्षाधिकारियो को आदेशित किया कि विद्यालय समय में कोई भी शिक्षक अपनी समस्या लेकर कहीं न जाये,यदि विद्यालय में कोई समस्या है तो शिक्षक एबीएसए, बीआरसी के संज्ञान में लाये, यदि कोई शिक्षक विद्यालय समय में अपनी समस्या लेकर उच्चाधिकारियो से मिला तो उसके निलम्बन की कार्यवाही की जायेगी।

उन्होने बताया कि समस्त नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रो में 6-14 आयु वर्ग के स्कूल न जाने वाले बच्चो का चिन्हांकन हेतु हाउस होल्ड सर्वे का कार्य 15 मई तक पूर्ण किया जाना है| इसमें श्रम, समाज कल्याण, आईसीडीएस, नगर विकास, माध्यमिक शिक्षा, विकलांग जन विकास, स्वास्थ्य, स्वयं सेवी संगठनो का स्वैच्छिक सहयोग लिया जाये। श्री राव ने जिला बेसिक शिक्षा अधिकरी को निर्देशित किया कि घर-घर सर्वे का कार्य शिक्षको के माध्यम से कराया जायेगा|

इस कार्य में ग्राम प्रधान , विद्यालयो में स्थित आंगनवाड़ी केन्द्रो में कार्यरत कार्यकत्रियों का सहयोग लिया जाये, इसमें मजरे, वार्ड़, मोहल्ले के सभी घरो एवं परिवारो का आच्छादन सुनिश्चित किया जाये। हाउस होल्ड सर्वे में वोटर लिस्ट के आधार पर स्लम एरिया तथा झुग्गी झोपड़ी में निवास करने वालो परिवारो को भी इस डाटा सर्वेक्षण में सम्मिलित किया जाये। उन्होने कहा कि नगरीय क्षेत्र में 03 से 14 वर्ष के ऐसे अनेक बच्चे जो किसी स्थायी निवास में नही रहते बल्कि रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, मलिन बस्तियो, झुग्गी झोपड़ी, ढाबा व ईट-भट्टों पर कार्य करने वाले परिवारो के बच्चो, विकलांग बच्चो को भी सर्वे में शामिल किया जाये।

बैठक में जिला विद्यालय निरीक्षक आरपी यादव, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी राम करन यादव, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका रामपाल समस्त खण्ड शिक्षाधिकारी आदि उपस्थित रहे।

रिपोर्ट- दीपक मिश्रा 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY