एक दिव्यांग ने ठाना है, भारत स्वच्छ बनाना है

0
64

बड़ागाँव/वाराणसी(ब्यूरो)- स्वच्छ भारत मिशन के तहत सरकारी स्तर पर जहा खुले में शौचमुक्त गाँव(ओडीएफ)के लिए जहा तमाम कवायद हो रही है वही एक दिव्यांग व्यक्ति अपने स्तर पर गाँव में टीम बनाकर अपने गाँव के लोगो को जागरूप करने में लगा है। जाठि गाँव निवासी व्हील चेयर के सहारे चलने वाले अशोक सिंह अपनी यह मुहिम गाँव से निकलकर पुरे देश में फैलाना चाहते है। इनका मकसद है देश को स्वच्छ और स्वस्थ बनाना है|

स्थानीय विकास खण्ड पिण्डरा ब्लॉक के जाठि गाँव का एक दिव्यांग व्यक्ति जगा रहा है स्वच्छ भारत मिशन का अलख।जाठि गाँव के अशोक सिंह उम्र 46 जो स्वच्छ भारत मिशन के तहत सुबह 4 बजे से 6 बजे गाँव के चौदह पुरे पर जाकर विसिल बाजार कर गाँव की निगरानी करते हैं।

अशोक सिंह द्वारा बताया गया कि सुबह उठकर विसिल बजा कर लोगो उठाते है। उसके बाद गाँव की महिला टीम और पुरुष टीम को लेकर सुबह 4 बजे से 6 बजे तक नारा लगाकर लोगो को जागरूक करते है। इनका कहना है कि मेरी टीम में 40 औरते व 50 पुरुष है जो प्रत्येक दिन सुबह उठकर पाँच नारा लगाकर लोगो जागरूक करते है। पहला नारा बंद करो भाई बंद खुले में शौच करना बंद करो। दूसरा नारा जो खुले में शौच जायेगा मिट्टी डालकर आएगा। तीसरा बहन बेटियो दूर न जाये घर में शौचालय बनावये। हम सबने यह ठाना है गांव गाँव को स्वच्छ बनाना है। पाँचवा नारा गाँव गाँव का यही नारा स्वच्छ भारत और स्वस्थ भारत बनाओ।

अशोक सिंह का यह भी कहना है की यह पहल हम अपने गाँव जाठि से सुरु किये है और पुरे भारत तक पहुचाएंगे और पूरे भारत के दिव्यांगों से मेरा अपील है कि वो भी इस तरह कार्य करके भारत को स्वच्छ व स्वस्थ बनाने में आगे आये। जिससे आने वाली पीढ़ी स्वस्थ रहे और देश के बच्चे कुपोषित न हो।

रिपोर्ट – घनश्याम गुप्ता

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY