दिव्यंगों की विकास खण्डवार सूची मुख्य विकास अधिकारी के माध्यम से खण्ड विकस अधिकारियों को उपलब्ध करायेे: जिलाधिकारी

0
85

मैनपुरी(ब्यूरो)- दिव्यंगों की विकास खण्डवार सूचीं मुख्य विकास अधिकारी के माध्यम से खण्ड विकास अधिकारियों को उपलब्ध कराई जायेे, खण्ड विकास अधिकारी वरीयता के आधार पर दिव्यांगों को आवास, शौचालय उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। शादी अनुदान येाजना में दिव्यांग को दिव्यांगों से शादी करने पर 35 हजार, दिब्यांग लड़के को अन्य से शादी करने पर 15 हजार, दिव्यांग लड़की से शादी करने पर 20 हजार का अनुदान दिया जाये। दिव्यांगों के यूनिक आईडी कार्ड जारी कराने की प्रक्रिया प्राथमिकता पर की जाये।

उक्त निर्देश जिलाधिकारी यशवन्त राव ने दिब्यांग बन्धु एवं लोकल लेबल कमेटी की समीक्षा बैठक मे देते हुए कहा कि जो लाभार्थी शौचालय,आवास एवं राशन कार्ड के पात्र है उनको प्राथमिकता के आधार पर उपलब्ध कराये जाये। दिव्यांगजनो की करेक्टिव सर्जरी कराये जाने की जानकारी करने पर पाया कि वित्तीय वर्ष 2016-17 में 51 बच्चो की करेक्टिव सर्जरी सफलता पूर्वक करायी गयी थी। इस वित्तीय वर्ष में सर्जरी कराये जाने हेतु मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से सूचीं उपलब्ध कराये जाने हेतु पत्राचार किया जा चुका है। जिलाधिकारी ने जिला दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी को निर्देशित किया कि यदि कोई दिव्यांग किसी ट्रेड में प्रशिक्षण लेना चाहता हो तो उसे कौशल विकास मिशन के तहत प्रशिक्षण दिलाया जाये, जिनकी स्वयं की पक्की दुकान या जमीन/घर है और जो गरीब एवं व्यवसाय करने के इच्छुक हो ऐसे दिव्यांगजनो को जो ट्राईसाइकिल पर गुमटी टाइप बनाकर अपना व्यवसाय करना चाहते है को प्राथमिकता पर ऋण उपलब्ध कराया जाये।

दिव्यागों को स्वरोजगार स्थापित करने हेतु ऋण उपलब्ध कराये जाने के संबंध में बताया गया कि विभाग द्वारा प्रति लाभार्थी 10 हजार रू. का ऋण उपलब्ध कराया जाता है, जिसमें से 2500 रू. अनुदान एवं 7500 रू ऋण के रूप में उपलब्ध कराया जाता है। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी विजय कुमार गुप्ता, मुख्य चिकित्साधिकारी डा. शरद वर्मा, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी सुरेश चन्द्र यादव, जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी साहब यादव आदि उपस्थित रहे। बैठक का संचालन जिला दिव्यांगजन सशक्तीकरण अधिकारी यश कुमार वर्मा ने किया।

रिपोर्ट- दीपक शर्मा 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY