ओडीएफ कार्य में लापरवाही करने पर खफा : डीएम

0
42

बदायूँ (ब्यूरो) शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता के कार्यक्रम स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण योजनान्तर्गत जनपद को 31 दिसम्बर तक खुले में शौच मुक्त कराने हेतु ग्राम स्तर पर नोडल अधिकारी नामित किए गए हैं । योजना को सफल बनाने के लिए समय-समय पर समीक्षा कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए जाते हैं, फिर भी ओडीएफ में समय से कार्य न होने पर जिलाधिकारी अनिता श्रीवास्तव ने प्रातः विकास खण्ड उझानी के ग्राम छतुईया, तौलकपुर, रायपुर एवं बुटला का औचक निरीक्षण किया।

गुरुवार को डीएम ने प्रातः ही गांवों का निरीक्षण किया तो नोडल अधिकारी, पर्यवेक्षण अधिकारी तथा ग्राम स्तरीय कर्मचारी उपस्थित न मिलने पर कड़ी नाराज़गी व्यक्त करते हुए ग्राम पंचायत अधिकारी रवि वर्मा तथा शिखर गुप्ता, सफाई कर्मचारी मनोज छतुईया, बन्टू बुटला दौलत तथा राजेन्द्र रायपुर स्वच्छ भारत मिशन के ग्रामों में ओडीएफ करने हेतु लगी स्वैच्छा गृहणियों की टिगरिंग एवं फॉलो-अप टीमां की सहायता बेसलाइन सर्वे, एमआईएस एवं फोटो अपलोडिंग न करने जैसे गंभीर आरोपों में निलम्वित करने के निर्देश दिए हैं। गंगा एक्शन प्लान के अन्तर्गत शिखर गुप्ता को ओडीएफ में शौचालय कार्य पूर्ण न होने पर निलम्वित कर दिया है। उन्होंने कहा कि जो अधिकारी, कर्मचारी इस महत्वपूर्ण कार्य में लापरवाही करेगा, उसके विरुद्ध यही कार्यवाही की जाएगी।

उन्होंने कहा कि जितने अधिकारी, कर्मचारी ओडीएफ में कार्य कर रहे हैं, वह प्रतिदिन की रिपोर्ट से अवगत कराएं। इस कार्य में किसी प्रकार की कोई लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सीएलटीएस विधा आधारित पांच दिवसीय टिगरिंग एवं फॉलो-अप कार्य का पर्यवेक्षक कम से कम दो दिन अवश्य किया जाए। ग्राम में यदि लाभार्थी को सम्पूर्ण स्वच्छता अभियान, निर्मल भारत अभियान, इंदिरा आवास, लोहिया आवास, समग्र ग्राम विकास योजना इत्यादि के अन्तर्गत पूर्व में शौचालय निर्माण हेतु धनराशि मिल चुकी है, किन्तु शौचालय का निर्माण नहीं हुआ है तो सम्बंधित दोषी लाभार्थी, ग्राम प्रधान अथवा सचिव के विरुद्ध प्रथम सूचना रिपार्ट अंकित कराते हुए धनराशि वसूली की कार्यवाही कराई जाए।

रिपोर्ट – सोनू यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here