नपा अध्यक्ष की उपेक्षा से आहत हुए बलिया के साहित्यकार

0
12

बलिया (ब्यूरो)- नगर पालिका और जिला प्रषासन काफी उदार है अखिल भारतीय स्तर के कवियों को सम्मान सहित बुलाकर उनको उचित मानदेय देकर विदा करता है जबकि इसके विपरित स्थानीय कवियों को कोई तवज्जो नहीं मिलता है। काफी पहले स्थानीय कवियों को भारतेन्दु कला मंच पर ही एक दिन काव्य पाठ का अवसर दिया जाता था। कुछ समय पहले पूर्व मंत्री नारद राय के सौजन्य से स्थानीय कवि सम्मेलन कराया गया था। इसके बाद से इस बाबत कोई पहल नहीं हो रही है। इस पर नगर पालिका और जिला प्रशासन को गंभीरता से विचार किया जाना चाहिये। यह स्थानीय कवियों में मान सम्मान से जुड़ा मसला है। नगर पालिका और जिला प्रशासन बधाई का पात्र है क्योंकि उदार चरितानाम वसुधैव कुटुम्बकम उक्ति का अक्षरशः पालन कर अपने को धन्य कर रहा है।

उक्त बातें अखिल भारतीय विकास संस्कृति साहित्य परिषद के अध्यक्ष एवं प्रख्यात साहित्यकार एवं कवि फतेहचंद बेचैन ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से कही। उन्होंने आरोपिया लहजे में कहा कि नपा चेयरमैन के उपेक्षात्मक रवैये से स्थानीय कवियों में हीनता का भाव है। कहा कि अपने घर में हो रही उपेक्षा से बलिया के साहित्यकार व काव्यकार हताश व निराश है। बेचैन ने जिलाधिकारी से मामले हस्तक्षेप करते हुए गुजारिश की कि स्थानीय कवियों को भी ददरी मेला के भारतेन्दु मंच पर काव्य पाठ का मौका देने की पहल करनी चाहिये क्योंकि नपा अध्यक्ष से इस प्रकार की उम्मीद बेमानी प्रतीत होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here