एच-1बी वीजा की चिंता छोड़े, भारत में ही बेस पढ़ाएं आईटी कंपनियां- रविशंकर प्रसाद

0
174

नई दिल्ली – ट्रंप प्रशासन की नीतियों की वजह से मुश्किल में पड़ी भारतीय आईटी कंपनियों के समर्थन में भारतीय आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद खुलकर सामने आ गए हैं उन्होंने आज दिल्ली में आयोजित डिजिटल इंडिया समिट एंड अवार्ड समारोह में बोलते हुए कहा है कि मुझे लगता है कि हर समस्या का हल होता है इसका हल भी घर से ही निकलेगा उन्होंने आगे कहा कि अब वह समय आ गया है जब भारतीय आईटी कंपनियों को देश के विस्तार के बारे में सोचना शुरु कर देना चाहिए उन्होंने कहा कि आईटी क्षेत्र में भारतीय कंपनियों का बड़ा योगदान है।

बहुत बड़ा है भारतीय आईटी सेक्टर का आकार-
आज देश की राजधानी नई दिल्ली में आयोजित डिजिटल इंडिया समिट एंड अवार्ड समारोह में बोलते हुए आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि भारतीय आईटी कंपनियों का कारोबार 150 बिलियन डालर के आसपास है लेकिन आजकल यह इंडस्ट्री अमेरिका की तरफ से एच1बी वीजा मामले में दिक्कतों का सामना कर रही हैं। अमेरिका में एच1 वीजा मामले की लगातार आलोचना होती रहती है वहां के लोगों का ऐसा मानना है कि एच-1बी वीजा के तहत भारत से बहुत सस्ते में लोगों को लाकर यहां पर काम करवाया जाता है। जिसकी वजह से अमेरिकंस की नौकरी मारी जाती है। जबकि वहीं दूसरी तरफ भारत में इन कंपनियों का दावा है की भारतीय आईटी प्रोफेशनल्स और इंजीनियर अमेरिका में रहकर कई तरह के रिसर्च से लेकर इंजीनियरिंग के कामों में मदद कर रहे हैं और जब अमेरिकी कंपनियों को अमेरिका में उनके काम के लोग नहीं मिल पाते हैं तब वह भारत से बेहतर आईटी प्रोफेशनल्स को हायर करते हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY