सरकार ने करोंड़ों खर्च कर बनवाया अस्पताल लेकिन डाक्टर है गायब, मरीज बेहाल

0
94

चकलवशी/उन्नाव (ब्यूरो)-  प्रदेश में भले ही सरकार बदल गई हो लेकिन पी.एच.सी. पर तैनात डाक्टरों का रवैया नहीं बदला | वह आज भी वही पुराने ढर्रे पर चल रहे हैं। केन्द्र पर न आने की आदत मे कोई सुधार नहीं हुआ है तभी तो फार्मासिस्ट के भरोसे अस्पताल की सारी जिम्मेदारी है | वह अपने तरीके से मरीजों का इलाज कर रहा है।

दरअसल आपको बता दें कि विकास खण्ड सरोसी क्षेत्र के गाम सभा कनजौरा मे नया प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र है जहां पर कागजों में तो पूरा पैरामेडिकल स्टाफ तैनात है लेकिन डाक्टर संजय कुमार, डाक्टर राजेश कुमार शायद ही कभी अस्पताल आते हैं | वहाँ का सारा काम फार्मासिस्ट महेश साहू देखता है |

जबकि बता दें कि प्रतिदिन औसतन तीस ओ.पी.डी. के लिए मरीज आते हैं लेकिन डाक्टरों के न मिलने पर फार्मासिस्ट से इलाज के लिए मजबूर है | जबकि छेदी लाल निवासी जसुवा पुर सावित्री व नीतू निवासी महिपति खेडा, शिखा निवासी कनजौरा केंद्र पर दवा लेने के लिए पहुची तो वहां से डाक्टर नदारत थे | जबकि अस्पताल में मरीजों को भर्ती करने के लिए बेड की भी व्यवस्था है | डाक्टरों के ठहरने के लिए आवास भी बने हुए हैं पानी के लिए टंकी बनी हुई है लेकिन देखरेख के अभाव में वहां पर गन्दगी का अम्बार लगा हुआ है |

चाहर दीवारी टूटी हुई पडी है पानी की कोई व्यवस्था नहीं है | आवास खस्ता हालत में पहुच गये हैं जबकि इस केंद्र के अन्तर्गत बिधनू, जसुवा पुर, महिपति खेडा, भागू खेडा, तोरियार, दमगढी, ऐरा भदियार सहित दर्जनों गांवों के लोगों के इलाज के लिए पी.एच.सी. कनजौरा का निर्माण किया गया था | लेकिन डाक्टरों के उदासीनता के कारण केंद्र बदहाल हो गया है और यहां के निवासियों को इलाज के लिए जिला मुख्यालय पर या फिर झोलाछाप डॉक्टरों की शरण में जाने के लिए बिवश होना पड़ता है गामीणो ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी से जांच कर कार्रवाई की मांग की है।

रिपोर्ट- अशोक दुबे 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here