धरती के भगवान् बन बैठे रिश्वत खोरी के हैवान, क्या ऐसे ही पूरे होंगे योगी और मोदी के वादे ?

0
151

कन्नौज (ब्यूरो)- कन्नौज में गरीब मरीज के परिजनों के साथ रुपयों की वसूली का मामला सामने आया है।कन्नौज के जिला अस्पताल से एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें सर्जन का सहायक मुफ्त होने वाले आपरेशन के लिए रुपये लेकर जेब मे रख रहा है। राष्ट्रीय प्रोग्राम में चयनित एक मरीज के परिजनों से आपरेशन के नाम पर सर्जन का सहायक वसूली का यह खेल खेला गया, हम आपको दिखाते है वायरल हुआ।

कन्नौज में राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत हार्निया से पीड़ित एक बच्चे विशाल का चयन किया गया था। इस बच्चे का प्रोग्राम के तहत जिला अस्पताल में ऑपरेशन होना तय हुआ था, लेकिन जब बच्चे का पिता गुड्डू उसे लेकर जिला अस्पताल पहुंचा तो वहां डाक्टर के साथ रहने वाले उसके सहायक ने बाहरी खर्च के नाम पर 5 हजार रुपयों की मांग रख दी। गुड्डू ने किसी तरह कर्ज लेकर रुपयों का इंतजाम किया। वह जिला अस्पताल के सृजन योगेंद्र गुप्ता के सहायक को रुपये दे रहा था तभी किसी ने रुपये जेब में रखते वीडियो बना ली। वीडियो वॉयरल होने के बाद अस्पताल में हड़कम्प मच गया और डाक्टर बिना ऑपरेशन के ही चले गये।

मीडिया तक मामला पहुंचने के बाद अस्पताल प्रशासन ने अपनी गर्दन बचाने के इंतजाम शुरू कर दिये। कन्नौज जिला अस्पताल में ही वसूले गये रुपयों को लेकर हंगामा शुरू हो गया। वहां मौजूद स्टाफ नर्स ने मीडिया के कैमरों की मौजूदगी में मरीज के परिजनों को धमकाना शुरू कर दिया। आप खुद ही देखिये कैसे नर्स परिजनों को।धमका रही है।

जिला अस्पताल के अधीक्षक डॉ. सी.पी. सिंह ने पीड़ित के रुपये वापस करवाकर इसे प्राइवेट कर्मी की करतूत बताकर सर्जन योगेंद्र गुप्ता का बचाव किया, लेकिन बड़ी बात यह है कि बिना किसी सीनियर की शय के प्राइवेट कर्मी की वसूली करने की हिम्मत हुई कैसे। कन्नौज में हुए इस मामले ने धरती के भगवान कहे जाने वाले डॉक्टरों के बदले रवैये ओर उनकी रुपयों की भूख को एक बार फिर सांमने ला दिया है।

रिपोर्ट- सुरजीत सिंह

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY