प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों से डॉक्टर नदारत, फार्मेसिस्टों के भरोसे क्षेत्रीय जनता

0
102


चकलवशी : गामीण क्षेत्रों की स्वास्थ्य सेवाएं सुधरने का नाम नहीं ले रही है अस्पताल तो बने हुए हैं लेकिन वहां से डाक्टर नदारत है। सिर्फ फार्मासिस्ट के भरोसे काम चलाया जा रहा है। जबकि गर्मी के मौसम की शुरुआत हो चुकी है और कई तरह की मौसमी बीमारियां पनपने लगी है उसके बाद भी स्वास्थ्य महकमा हाथ पर हाथ रखकर बैठा हुआ है।

विकास खण्ड मियांगज का नया प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मवई बमहनान हो या फिर सरोसी ब्लाक का नया प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कनजौरा, जगदीशपुर कमोबेश हर केन्द्र की हालत एक जैसी ही है मवई बमहनान मे डा कमल खातून जिला मुख्यालय निकल गई जबकि अस्पताल में भर्ती करने के लिए दो बेड बने हुए हैं लेकिन वहां पर भर्ती किया नहीं जाता क्योकि डाक्टर पी एच सी पर रूकते ही नहीं फार्मासिस्ट रमेश चन्द्र अपने तरह से लोगों का इलाज करता है जबकि कागजों पर पूरा पैरामेडिकल स्टाफ तैनात किया गया है जिसमें ए एन. एम. अनीस बानो नदारत थी लैब असिस्टेंट राजकुमार भी गायब था वार्ड ब्याय राजेश कुमार था लेकिन चपरासी राम औतार गायब अस्पताल में डाक्टरों के निवास के लिए आवास भी बने हुए हैं लेकिन वहां आज तक कोई भी नहीं रूका जिससे वहां की स्थिति जर्जर हो चुकी है यहाँ पर आने वाले लोगों को पानी पीने के लिए हैंडपंप की व्यवस्था तक नहीं है चाहर दीवारी टूटी हुई है यही हाल कनजौरा का है वहां तैनात डाक्टर सहित पूरा स्टाप कागजों पर तैनात हैं लेकिन डॉक्टर नहीं मिलते हैं फार्मासिस्ट यहाँ भी अपने तरह से लोगों का इलाज करता है जबकि जिले पर बैठे मुख्य चिकित्सा अधिकारी सब कुछ जानते हुए भी इस ओर ध्यान नहीं देते हैं जिससे गामीण क्षेत्रों में खुले पी एच सी मात्र शो पीस बनकर रह गये हैं और सरकारी आंकडों में व्यवस्था चाक चौबंद दिखाई जाती है जबकि जमीनी हकीकत इसके विपरीत है।

रिपोर्ट – अशोक दुबे

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY