बाहर की दवाएं लिखने से बाज नही आ रहे है डाक्टर

0
238

chc
रायबरेली : रायबरेली जनपद में निजी चिकित्सालयों एवं नर्सिंग होमों के होने के उपरांत भी झोलाछाप डाक्टरों का वर्चस्व बढ़ता ही जा रहा है। जिसके सदस्य तथा कथित डाक्टर किसी न किसी निजी व मनपा अस्पताल से जुड़े हुए है तथा वहां पर मरीजों को भेजने का कार्य कर रहे है। जिन पर अंकुश लगाने में विभाग के अधिकारी नाकामयाब दिख रहे है। प्रदेश सरकार ने सख्त लहजे में हिदायत दे रखा है कि कोई भी डाक्टर मरीजों को बाहर की दवाएं नही लिखेगा, बावजूद डाक्टर बाहर की दवाएं लिखने से नही चूक रहे है।

कुछ ऐसा ही नजारा सदर क्षेत्र के मटिहा, निकट पुलिस लाईन में तैनात फाइलेरिया के सरकारी डाक्टर मान सिंह बाहर की दवाएं लिखने से बाज नही आ रहे है। पीड़ित रामशंकर पाण्डेय निवासी भदोखर तथा संगीता यादव निवासी बथुवा की माने तो उक्त डाक्टर द्वारा मोटा कमीशन लेकर एक नजदीकी मेडिकल स्टोर को दवाएं लिख रहे है। बाहर की लिखी गयी दवाएं जो लगभग एक बार में 600 से 700 रूपये की होती है। इस संबंध में मुख्य चिकित्साधिकारी डी के सिंह से बात की गयी तो उन्होंने बताया कि बाहर की दवाएं लिखने के लिए सख्त मना किया गया है। और कहा कि अगर ऐसा कुछ है, तो उक्त डाक्टर के खिलाफ जांच पड़ताल कर कार्यवाही की जायेगी।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here