शिकारी की गोली से बचे दुर्लभ प्रजाति के बारहसिंघा हिरन का उपचार कर बचाई जान

0
260


उन्नाव ब्यूरो : हसनगंज के पशु चिकित्सालय में प्रभारी डा0 अनुपम के नेतृत्व में टीम ने एक दुर्लभ प्रजाति के बारह सिंघा को शिकारी की गोली लगने से हुए घावों की मरहम पट्टी कर हिरण की जान बचाई

मालूम हो की माखी थाना क्षेत्र के ग्राम कोरारी के मोहल्ला नोगवा में बुधवार को एक बारहसिंघा हिरण घायल अवस्था में कुत्तों के पीछा करने की वजह से राजेश कुशवाहा के घर में घुस आया था जिसे ग्रामीणों ने पकड़ कर वन विभाग को सूचित किया था जिसपर वन रक्षक रसूलाबाद गिरजेश कुमार अवस्थी ने बारहसिंघा को अपनई सुपुर्दगी में ले लिया था बारह सिंघा के घायल होने कारण उसे बृहस्पतिवार को हसनगंज पशु चिकित्सालय लाया गया था जहां पशु चिकित्सक अनुपम ने घायल हिरण का चिकित्सीय परिक्षण किया जिसमे उसे तेज बुखार था तथा घाव होने के कारण शरीर में पानी की कमी हो गई थी |

डा0 अनुपम ने बताया कि हिरण के शरीर पर जो घाव है वो संदिग्ध लग रहे है किसी शिकारी के गन शॉट के घाव लग रहे है हिरण के शरीर पर 4 घाव है जो की लगभग 15 दिन पुराने लग रहे है जिससे घाव में कीड़े पड़ गए है अगर एक हफ्ते तक इसको इलाज न मिलता तो इसकी जान जा सकती थी अभी इसको ग्लूकोज़ देकर घावों की सफाई कर कीड़े निकाल दिए गए है जिससे ये खतरे से बाहर है और अभी एक हफ्ते तक रोज इसकी महरम पट्टी करनी होगी डा0 ने बताया कि हिरण की ये बहुत ही दुर्लभ प्रजाति है हमारी टीम के डा0 मनीष व् डा0 सुनील व् समस्त स्टाफ ने हिरण की जान बचाने का भरपूर प्रयास किया है | वनरक्षक गिरजेश अवस्थी ने बताया जब तक ये पूर्ण रूप से स्वस्थ नही हो जाता तब तक इसे नवाबगंज स्थित पक्षीविहार में रखा जायेगा ।

रिपोर्ट – राहुल राठौड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here