वर्दी के रौब में सारे कायदे कानून और मानवता भूले दोस्तपुर थानाध्यक्ष

0
91


कादीपुर/सुल्तानपुर (ब्यूरो) भाजपा बूथ अध्यक्ष देवापुर दिनेश कुमार के साथ दोस्तपुर थानाध्यक्ष द्वारा दुर्व्यवहार किए जाने व अन्य क्षेत्रवासियो में दहशत फैलाने को लेकर दोस्तपुर मन्डल अध्यक्ष ने उपजिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा । जहाँ शासन प्रशासन की मंशा है कि पुलिस एवं जनता के बीच मित्रवत सम्बन्ध स्थापित रहें, वही पुलिस के कुछ कर्मचारी अपनी वर्दी के गुमान में आकर भले व्यक्तियों को भी बेइज्जत करने से बाज नहीं आ रहे हैं ।

मामला है दोस्तपुर का जहाँ तैनात इंस्पेक्टर आजाद केसरी सरकारी फोन उठाना भी मुनासिब नही समझते है, अच्छे व्यवहार की उन से परिकल्पना करना दिन में तारे देखने के समान है। आजाद केसरी के आतंक से दोस्तपुर की जनता आतंकित हो चुकी है, यदि बदमाशो में पुलिस के प्रति आतंक हो तो अच्छी बात है, परन्तु सामान्य नागरिक व सम्भ्रान्त नागरिक भी उनके कार्य व्यवहार से आतंकित हो गया है। सड़क पर चलते व्यक्ति को कब थप्पड़ जड़ दे, अपनी रोजी रोटी चलाने वाले ठेले व खोमचे वाले को कब ले जाकर थाने बैठा ले , किसी सम्भ्रान्त व्यक्ति को कब अपशब्द कह दे उनके लिए यह सब आसान है।ताजे प्रकरण में आज सायं देवापुर भाजपा बूथ अध्यक्ष दिनेश कुमार थानाध्यक्ष के पास ब्यक्तिगत प्रकरण न्याय की गुहार किया व न्याय मिलने को कौन कहे उनके साथ बदसुलूकी कर उन्हें भगाने दिया ।

थानाथ्यक्ष के चार्ज लेते ही क्षेत्र में चोरी की घटनाएं बढ़ गयी है।शायद उन्ही चोरियो पर पर्दा डालने के लिए ओ ऐसा कर रहे है।जनता में चर्चा है कि गाँजे , चरस , अफीम व नकली शराब का कारोबार तो बंद नही हो सका , बल्कि इन कार्यो ने रफ्तार पकड़ी है, पेड़ की कटान आम बात है, प्रतिबन्धित पशु भी अवैध स्लाटर हाउसों पर धड़ल्ले से काटे जा रहे है, तो क्या ये दरोगा भले व्यक्तियों को केवल बेइज्जत करने के लिए आया है।यहाँ की स्थानीय जनता का आजाद केसरी के कार्य व्यवहार को लेकर आक्रोश बढ़ता जा रहा है , कब यहाँ की जनता आंदोलन पर उतारू हो जाये , कुछ कहा नही जा सकता है,आभास होता है कि यदि यहाँ से आजाद केसरी हटाये नही गए तो आने वाले ईद के त्योहार दोस्तपुर में कुछ नया इतिहास अवश्य गढ़ेगा। उक्त प्रकरण को लेकर भाजपा दोस्तपुर मंडल अध्यक्ष रमेश चन्द्र तिवारी ने जिलाधिकारी को सम्बोधित एक ज्ञापन सौपा ।

रिपोर्ट – संतोष यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY