देहरादून की एसपी देहात स्वेता चौबे व एसपी सिटी अजय सिंह का सबसे बड़ा गुड वर्क, चंद घंटो में ही कर डाला डबल मर्डर का खुलासा

0
324


देहरादून : रायपुर थाना क्षेत्र के नालापानी रोड तपोवन निवासी पिता-पुत्र की हत्या जितनी ससनीखेज तरीके से की गई उससे भी कहीं सनसनीखेज निकला है इस घटना का खुलासा। कथित रूप से ससुरालियों के दुर्व्यवहार आजिज  महिला ने अपने प्रेमी और उसके दोस्तों के हाथों पति का कत्ल करवा दिया और अपने ससुर को भी रास्ते से हटवा दिया। पति व ससुर की हत्या के जुर्म में पुलिस ने महिला और उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया है। इस घटना में शामिल रहे दो आरोपियों की गिरफ्तारी को दबिश दी जा रही है। हैरत की बात यह है कि पति और ससुर के शव को डोईवाला क्षेत्र में ठिकाने लगाने के बाद महिला ने खुद पुलिस को उनके गायब होने की सूचना दी ।

अपनों के खून से खेली होली
शनिवार की देर रात डोईवाला पुलिस को  कुआंवाला के जंगलो के पास लावारिस हालत में सेन्ट्रो कार (UA-07-L-6891)  खडी मिली थी। तलाशी लेने पर कार के अन्दर कम्बल से लिपटी कुछ संदिग्ध वस्तु दिखाई दी। पुलिस ने घटना की जानकारी आला अधिकारियों को दी। इसके साथ ही एफएसएल, फील्ड यूनिट, डाग स्कवाड, को भी मौके पर बुलाया गया। कार में कम्बल में लिपटी दो पुरुषो की लाशे बरामद हुयी। फोरेन्सिक सहायक डा0 शर्मा  द्वारा इन लाशों का परीक्षण कर मौके से महत्वपूर्ण जानकारी जुटाई गयी। वहीँ घटना को अंजाम देने वालों तक पहुंचने के लिए देहरादून एसएसपी स्वीटी अग्रवाल के निर्देश पर 6 पुलिस टीम का गठन किया गया। सभी टीमो को अलग-अलग टास्क देकर जानकारी जुटाने के निर्देश दिए गए।

पुलिस की जांच में सामने आया कि कुआंवाला के जंगलो के पास लावारिस हालत में मिली सेन्ट्रो कार मृतक राजेश राणा की पत्नी दीपिका राणा निवासी तपोवन रोड, ननूरखेडा के नाम से पंजीकृत है। पुलिस ने दीपिका के घर जा कर जानकारी ली तो पता चला कि बीते शनिवार की रात दीपिका राणा पत्नी राजेश राणा द्वारा पुलिस को सूचना दी कि राजेश राणा पुत्र प्रेम सिंह राणा व प्रेम सिंह राणा पुत्र स्व0 दलबीर सिंह राणा  दोनों  चार मार्च की सुबह करीब चार बजे अपनी सेन्ट्रो कार (UA-07-L-6891)  से बुलन्दशहर के लिए रवाना हुये थे, जो कि देर सायं तक बुलन्दशहर नही पहुंचे। सूचना मिलने पर पुलिस ने राजेश की काल डिटेल्स भी निकाली। जिससे उनकी लोकेशन मियाँवाला क्षेत्र में ही मिली। साथ ही पुलिस की जांच में पता चला कि तपोवन रोड पर ही योगेश अरोडा पुत्र सुभाष चन्द्र निवासी खेडापीर मन्दिर, खेडा कालोनी करनाल हरियाणा हाल पता– गोविन्दगढ थाना कैण्ट जनपद देहरादून पूर्व में  मृतक राजेश राणा के घर के पास किराये पर रहता था। पुलिस को दीपिका के बयान पर शक हुआ तो उसे हिरास में लेकर पूछताछ की गई। पूछताछ के बाद उसने राज उगल दिया। दीपिका से हुई पूछताछ के आधार पर एसएसपी ने बताया कि राजेश राणा की पत्नी दीपिका का अपने पति के साथ अक्सर अनबन रहता था। वह अपने पति से दूर होती गई और पड़ोस में रहने वाले योगेश अरोडा के साथ उसकी नजदीकियां बढ़ती गई।  पुलिस के अऩुसार जब भी दीपिका घर पर अकेली रहती थी, मौका देखकर योगेश उसके पास पहुंच जाता था। इस दौरान दीपिका ने कई बार अपने पति राजेश व उसकी बहनों के द्वारा अपने साथ किये जाने वाले दुर्व्यवहार की शिकायत की। योगेश अक्सर दीपिका को कहा करता था, कि मै एक दिन राजेश राणा को रास्ते से हटा दूँगा और उसके बाद हम दोनों साथ साथ जिन्दगी गुजारेंगे। इसी योजना के तहत योगेश ने अपने दोे साथियों को राजेश राणा और उसके पिता की हत्या के लिए राजी किया। योजना के अनुसार 3 मार्च की रात करीब एक बजे योगेश अपने दोनों साथियों के साथ पिछले दरवाजे से दीपिका के घर पहुंचा।उस समय परिवार के सभी सदस्य सो रहे थे। योगेश और उसके साथियों ने  पहले नाईलोन की रस्सी से पिता-पुत्र का  गला घोंट दिया। उसके बाद रसोई के चाकू से दोनों पर ताबडतोड कई वार किये। हत्या के बाद आरोपियों द्वारा घर पर पडे खून को कपडों और तौलियो से साफ किया और दोनों शव के सर पर प्लास्टिक की पन्नियों से बन्द कर डोरी से बाँध दिया, ताकि शवों को ठिकाने लगाने के दौरान खून कही गिर न पाये ।

हत्या कर आरोपियों ने दोनों शवों को घर पर रखे कंबल और चादर से लपेट कर सैन्ट्रो कार की डिक्की में मृतक राजेश राणा और पीछे की सीट पर प्रेम सिंह राणा का शव डालकर छिपा दिया। बाद में आरोपियों ने घर पर सफाई कर टूटे टेबल का काँच, हत्या में प्रयुक्त चाकू और खून से सने कपडे को एक पन्नी में रखकर लाडपुर के जंगल में उसी कार से पहुँचकर पैट्रोल छिडककर आग लगा दी।

आरोपियों ने बाद में हत्या के सुराग मिटाने के लिए कार को पुलिया नंबर 6 से होते हुये कुआँवाला शराब फैक्ट्री से आगे के जंगल में एकान्त स्थान पर खड़ा कर उसके अन्दर पैट्रोल छिडककर उसे आग लगाने की कोशिश की। जिसके चलते आरोपी योगेश का चेहरा और हाथ पैर झुलस  गये। जिससे वह कार को उसी स्थिति में छोडकर भाग गया।

पुलिस ने आरोपी योगेश की गिरफ्तारी के लिए टीम का गठन किया गया। टीम ने आरोपी योगेश को गोविन्दगढ से गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी योगेश ने अपना जुर्म कबूल किया। साथ ही पुलिस ने हत्या में प्रयोग किया चाकू और अन्य जला हुआ सामान के साथ मृतक का पर्स भी  बरामद किया। वहीँ पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने बताया कि घटना में उसके दो अन्य साथी भी मौजूद थे। पुलिस दोनों आरोपियों की तलाश कर रही है।

इस घटना में मृतक राजेश की बहन गीता पुण्डीर पत्नी अनिल निवासी तपोवन रोड नालापानी देहरादून ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया है। साथ ही देहरादून एसएसपी ने पुलिस टीम के लिए 2500 रूपये ईनाम की घोषणा की गयी।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here