डॉ. बीरबल बने भगवान् का दूसरा रूप

0
272

रायबरेली (ब्यूरो) डॉक्टर भगवान का दूसरा रुप है इसका प्रत्यक्ष उदाहरण आज देखने को मिला है, जब चिकित्सालय के वरिष्ठ फिजीशियन डॉक्टर बीरबल ने लकवा के एक गंभीर मरीज को अपने चिकित्सीय अनुभव से कुछ ही क्षणों में ही ना सिर्फ बीमारी का असर कम कर दिया बल्कि उसे नई जिंदगी दी है |

जानकारी के अनुसार मरीज बालापुर के चतुर्भुज मोहल्ला निवासी वीरेंद्र कुमार श्रीवास्तव 60 वर्ष को अचानक लकवा का अटैक पड़ गया तथा उसका दाहिना अंग लुंज-पुंज हो गया, परिजनों के द्वारा मरीज को डॉक्टर बीरबल को दिखाया गया उन्होंने सबसे पहले सिटी स्कैन व अन्य जांचें करवाई और अपने अनुभव के आधार पर पूरा इलाज किया व दवाएं उपलब्ध कराई | एक पीजिए नामक इंजेक्शन का प्रयोग किया और थोड़ी देर में मरीज का लुंज-पुंज दाहिना अंग सक्रिय होने लगा यह दृश्य देख कर मरीज के परिजनों में खुशी की लहर फैल गई सब ने डॉक्टर के प्रति धन्यवाद व् आभार व्यक्त किया| परिजनो को ऐसा लगा कि एक ही मुलाकात में मानो डाक्टर बीरबल ने कोई जादू कर दिया हो |

डॉ. बीरबल ने कहा कि कोई भी लकवा जैसी बीमारी से ग्रस्त होने पर जिला अस्पताल की सेवा ले और समय पर उपलब्ध दवाएं और इंजेक्शन ले व जिला अस्पताल का प्रयोग करे | डॉक्टर बीरबल ने यह भी बताया कि किसी मरीज को लकवा का अटैक पड़ने पर 3 घंटे के अंदर मरीज को जिला अस्पताल लाना आवश्यक होगा ताकि सिटी स्कैन सहित अन्य जांचें कराई जा सके जिससे मरीज का इलाज संभव हो सके इसके लिए डॉक्टर बीरबल ने अपना मोबाइल नंबर 9415 9554 85 वा CMS का मोबाइल नंबर भी उपलब्ध कराया | उन्होंने कहा कि मरीज को स्वास्थ्य करना ही हमारा परम कर्तव्य है |

रिपोर्ट – अनुज मौर्य/शिवा मौर्य

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY