डॉ. जितेन्द्र सिंह ने जन शिकायत पोर्टल के लिए मोबाइल ऐप का शुभारंभ किया

0
184
The Minister of State for Development of North Eastern Region (I/C), Prime Minister’s Office, Personnel, Public Grievances & Pensions, Department of Atomic Energy, Department of Space, Dr. Jitendra Singh launching the mobile App for Public Grievances Portal, in New Delhi on October 21, 2015. The Secretary, DoPT, Shri Sanjay Kothari is also seen.
The Minister of State for Development of North Eastern Region (I/C), Prime Minister’s Office, Personnel, Public Grievances & Pensions, Department of Atomic Energy, Department of Space, Dr. Jitendra Singh launching the mobile App for Public Grievances Portal, in New Delhi on October 21, 2015.
The Secretary, DoPT, Shri Sanjay Kothari is also seen.

केन्द्री य पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास राज्यल मंत्री (स्वितंत्र प्रभार), प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्यै मंत्री डॉ. जितेन्द्रन सिंह ने आज यहां प्रशासनिक सुधार और जन शिकायत विभाग(डीएआरपीजी) के केन्द्री कृत जन शिकायत निवारण तथा निगरानी प्रणाली (सीपीजीआरएमएस) पोर्टल के लिये मोबाइल एप्लीजकेशन का शुभारम्भय किया।

इस दिशा में मोबाइल फोन के माध्यम से नागरिकों को एम-एक्सेrस प्रदान कर एक कदम और आगे बढ़ाया गया है। पीजी पोर्टल पर एक त्वरित प्रतिक्रिया (क्यू‍ आर) कोड दिया गया है, जिसे स्मार्ट फोन पर स्कैन किया जा सकता है और इसके बाद, स्मार्ट फोन से शिकायतों को सीधे सीपीजीआरएमएस पर भेजा जा सकता है।

इस अवसर पर डॉ जितेन्द्रभ सिंह ने कहा कि यह प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा बताए गए ‘एआरटी ऑफ गवर्नेंस’ की परिकल्पंना को साकार करने में एक और कदम है जिसमें ए का मतलब का जवाबदेही, आर का मतलब का जिम्मे दारी और पी का मतलब पारदर्शिता है जो मिलकर शासन का मूल आधार तैयार करता है। उन्हों ने कहा कि उद्देश्य यह है कि प्रशासन नागरिक केंद्रित, पारदर्शी और उत्तेरदायी हो। डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि एनडीए सरकार आने के बाद से छ: लाख से अधिक जनशिकायतों का निपटारा किया जा चुका है। उन्होंिने कहा कि शासन में सुधार के लिए यह आंकड़े संसाधन सामग्री तैयार करेंगे।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने आशा जताई कि आम लोग मोबाइल ऐप का अधिक से अधिक लोग उपयोग करेंगे क्योंककि मोबाइल फोन देश भर में कहीं से भी संपर्क साधने का सबसे सरल तरीके के रूप में उभरा है।

अपने संबोधन में डीएआरपीजी के सचिव और पेंशन तथा पेंशनभोगी कल्यासण विभाग के सचिव श्री देवेंद्र चौधरी ने कहा कि मोबाइल ऐप से न केवल शिकायत दर्ज होगी बल्कि इससे लोग उनकी शिकायतों के निपटान की स्थिति के बारे में भी जान सकेंगे। उन्होंभने कहा कि डीएआरपीजी शिकायतों का विश्लेटषण भी कर रहा है और शिकायतों के बेहतर तरीके से निपटान के लिए व्यशवस्थित प्रणाली पर कार्य किया जा रहा है।

कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग में सचिव श्री संजय कोठारी भी शुभारंभ समारोह में उपस्थित थे।

सीपीजीआरएएमएस के लिए मोबाइल ऐप डीएआरपीजी के नवीन पहलों में से एक है, जो नागरिकों के शिकायतों को दूर करने में विभाग का सबसे महत्वोपूर्ण कदम है। डीएआरपीजी देश में नागरिक केंद्रित शासन के लिए नीतिगत निर्देश तैयार करने वाली नोडल एजेंसी है। डीएआरपीजी जनसेवा आपूर्ति को बेहतरीन करने और विभिन्नह मंत्रालयों और विभागों के साथ प्रभावी समन्वेय कर नागरिकों की शिकायतों का अर्थपूर्ण तरीके से निवारण करने तथा शिकायतों की वजह समाप्त करने के प्रयास कर रही है।

सीपीजीआरएएमएस भारत सरकार का पोर्टल है जिसका उद्देश्यर नागरिकों को उनकी शिकायतों के निपटान के लिए मंच प्रदान करना है। इस मंच पर प्राप्ते होने वाली शिकायतों का निपटान संबंधित मंत्रालय/विभाग/राज्यं द्वारा किया जाता है। सीपीजीआरएएमएस का शुभारंभ एनआईसी इन 2007 के साथ तकनीकी विचार विमर्श कर डीएआरपीजी द्वारा किया गया था। एक जनवरी 2012 से अब तक छ: लाख से अधिक शिकायतें दर्ज हुई हैं। पिछले 12 महीनों में नौ लाख शिकायतें दर्ज हुईं और 6.47 लाख शिकायतों का निपटान कर लिया गया।

Source – PIB

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

10 + four =