इटावा सैंफई एसपीजीआई के प्रोफेसर डॉक्टर राजकुमार होंगे सैफई विश्वविद्यालय के नये कुलपति

0
436

इटावा (ब्यूरो) – इटावा सैफई आखिर लंबी कवायद के बाद सरकार ने यूपी आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय सैफई में नये कुलपति के रूप में एसपीजीआई में न्यूरोलॉजी के प्रोफेसर डॉक्टर राजकुमार के नाम पर मोहर लगा दी है,मूल रूप से कानपुर देहात के झिझक के रहने वाले डॉक्टर राजकुमार इससे पहले ऋषिकेश एम्स में निदेशक के पद पर तैनात रह चुके है और वर्तमान में एसपीजीआई लखनऊ में न्यूरोलॉजी बिभाग में प्रोफेसर के पद पर तैनात है,डॉक्टर राजकुमार सैफई विश्वविद्यालय की एक्जीक्यूटिव कमेटी के मेम्बर भी है और सैफई में आना जाना बरकरार रहता है,डॉक्टर टी प्रभाकर के करीबी मित्रो की फहरिस्त में सुमार डॉक्टर राजकुमार को 13 अप्रैल को एक्जीक्यूटिव कॉउंसिल की बैठक में डॉक्टर ऑफ साइंस की उपाधि से भी नवाजा गया था,डॉक्टर राजकुमार अगले एक दो दिन में कुलपति का चार्ज ग्रहण कर सकते है|

नये कुलपति के आने के बाद उनके सामने उन घोटालो की फेहरिस्त पर कार्यवाही करने का दवाब रहेगा जो पिछले एक दो साल से विश्वविद्यालय में होते आ रहे है चाहे वोह स्टॉफ नर्सिंग स्क्रीनिंग परीक्षा घोटाला हो,लेब टेक्नीशियन भर्ती घोटाला,सहायक लेखाकार भर्ती घोटाला हो या फिर सफाई फर्म ठेकेदार का करोड़ो रूपये का ईपीएफ घोटाला हो जिनकी शिकायत आज भी शासन स्तर पर लंबित है और उच्चन्यायालय में भी विचाराधीन है,लोगो की उम्मीदों पर आने वाले कुलपति किस तरह खरे उतरेंगे यह आने वाले कुछ महीनों में साफ हो जायेगा,सरकार के पास कुलपति चुनने के लिए जो पाँच नाम पैनल में भेजे गए थे उसमे डॉक्टर सूर्यकांत त्रिपाठी,डॉक्टर जी के सिंह,डॉक्टर राजकुमार,डॉक्टर के एम शुक्ला और डॉक्टर आर के शर्मा के नाम शामिल थे जिसमें डॉक्टर राजकुमार का नाम सबसे आगे था और सरकार ने इसी नाम पर अपनी मोहर भी लगा दी,अब देखना है कि नये कुलपति आने वाले वक्त में विश्वविद्यालय को किस ऊँचाई पर ले जाते है या फिर विश्वविद्यालय में वर्षो से चला आ रहा पुराने ढर्रे पर ही अपने को ढालने का प्रयास करेंगे।उम्मीद करते है कि आने वाले नये कुलपति वर्तमान में विश्वविद्यालय में फैली अव्यवस्था को दूर करने के साथ साथ पुराने ढर्रे को समाप्त करने का प्रयास करेंगे।

 रिपोर्ट – रामकुमार राजपूत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here