भारत ने लेज़र बीम टेक्नोलॉजी वाले बमों का किया सफल परीक्षण, दुश्मन को कर देगा नस्तोनाबूत….

0
21574

sukhoi

भारतीय वैज्ञानिकों ने एक और बड़ी सफलता हासिल करते हुए, लेज़र बीम टेक्नोलॉजी वाले बमों का सफल परिक्षण कर लिया है |

भारतीय सुरक्षा अनुसन्धान विकास संस्था के वैज्ञानिकों ने गरुड़ और गरुथमा नाम के दो ग्लाइड बमों को भारतीय वायुसेना के विमान सुखोई से दागकर इसका सफल परिक्षण किया |

ख़ास बात यह है कि दोनों ही बम पूरी तरह से स्वदेशी हैं, गरुथामा बम की रेंज 100 किलोमीटर तो गरुड़ 30 किलोमीटर तक मार कर सकता है, गरुथामा का वजन करीब 1000 किलो है, वैज्ञानिकों का कहना है कि इस साल के अंत तक ये दोनों ही बम सेना को दे दिए जायेंगे, इन बमों की रेंज में पाकिस्तान का लगभग 100 किलोमीटर है |

परीक्षण में डीआरडीओ और वायुसेना के अधिकारी शामिल थे. ग्लाइड बम को डीआरडीओ ने पुणे व हैदराबाद की लैब में तैयार किया है. 2015 में ग्लाइड बम का परीक्षण चांदीपुर रेंज के समुद्र में किया जा चुका है |

भारत अपने दुश्मनों को उनकी नापाक हरकतों का जवाब देने के लिए अपनी ताकत को लगातार बढ़ा रहा है , हाली ही में भारत ने ब्रम्होस, अग्नी, पृथ्वी जैसी कई मिसाइलों के सफल परीक्षण के बाद उन्हें सेना को सौंपा है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY