इस दफ्तर में छलकाते हैं जाम, बोतलों को ऐसे लगाते हैं ठिकाने

0
85


देहरादून : क्या सरकारी महकमे शराब पीने का अड्डा बन गए हैं? यह मौजूं सवाल हमारी नहीं, बल्कि हालात की उपज है। दरअसल, छह दिन पहले विकास भवन की चोक सीवर लाइन को ठीक करने के लिए जल संस्थान ने जब चैंबर खोला तो उससे शराब की कई बोतलें ‘दफन’ मिलीं। जल संस्थान ने इन बोतलों को निकालकर लाइन चालू की। इससे पहले तहसील परिसर में भी निरीक्षण के दौरान फाइलें रखने वाली एक रैक के पीछे शराब की बोतलें, गिलास और नमकीन रखी मिली थी।

सर्वे चौक स्थित विकास भवन में करीब 15 दिन पहले सीवर लाइन चोक होने लगी थी। जिसकी शिकायत विभाग ने जल संस्थान से की। तकरीबन एक सप्ताह तक तो यूं ही काम चलता रहा, मगर जब परेशानी ज्यादा बढ़ गई तो जल संस्थान के अधिकारियों से शिकायत की गई। इस पर जल संस्थान से कुछ कर्मचारी विकास भवन पहुंचे और सीवर लाइन की सफाई शुरू की। इस दौरान चैंबर खोला गया तो उसमें शराब की कई बोतलें मिलीं, जिनकी वजह से लाइन चोक हो रखी थी।

शुक्र है कि विकास भवन में डाली गई सीवर लाइन चार इंच की है। अगर यह लाइन कुछ और मोटी होती तो ये बोतलें लाइन में घुसकर आगे चली जातीं। ऐसे में इन्हें निकालने के लिए सड़क की खुदाई कर लाइन को काटना पड़ता। जल संस्थान के अधिशासी अभियंता यशवीर मल्ल ने बताया कि लोगों से लगातार अपील की जा रही है कि ऐसी वस्तुएं सीवर लाइन में न डालें

तहसील में भी मिली थीं शराब की बोतलें
24 मार्च को अपर जिलाधिकारी (एडीएम) प्रशासन ने तहसील में छापा मारा था। इस दौरान तहसील के दो कर्मचारी शराब के नशे में धुत पाए गए। इतना ही नहीं, निरीक्षण के दौरान परिसर से शराब की बोतलें, नमकीन और गिलास भी बरामद हुए। इसपर एडीएम ने दो कर्मचारियों का तबादला कर दिया था, जबकि दो कर्मचारियों को चेतावनी देकर छोड़ा था।

सीवर लाइन से निकले ईंट-पत्थर
करनपुर में पिछले एक माह से सीवर लाइन चोक थी। स्थानीय लोगों की कई शिकायतों के बाद शुक्रवार को जल संस्थान ने आठ इंच की इस सीवर लाइन को दुरुस्त करने का काम शुरू किया। जब लाइन को काटा गया तो उसके अंदर से चार इंच का लोहे का एक पाइप और तमाम ईंट-पत्थर निकले। इसके अलावा भी कई जगहों पर सीवर लाइन के अंदर से ईंट-पत्थर व अन्य सामग्री मिल चुकी है।

पहले ही जर्जर हैं लाइनें
दून की तमाम सीवर लाइनें जर्जर हो चुकी हैं। इनमें से कई लाइनें तो 40 साल पुरानी हैं। जिस कारण पहले ही पूरे शहर में आए दिन सीवर चोक होने की समस्या बनी रहती है। लाइन में ऐसी वस्तुओं के जाने से समस्या और बढ़ जाती है।

रिपोर्ट – मोहम्मद शादाब

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY