अपात्रों को दिया गया सूखा राहत का पैसा और किसान लगाते रहे चक्कर

0
95

उन्नाव(ब्यूरो)- जनपद की सबसे बडी तहसील हसनगंज में पहुंच व एडवांस कमीशन देने पर लेखपाल व कानूनगो के रहमो करम पर सूखाराहत का पैसा लेने वाले अपात्रो की बल्ले-बल्ले हुई। वही तहसील के पचास फीसदी गरीब किसानो ने अधिकारियो की चौखट सहित दर्जन बार तहसील दिवसो मे शिकायत की । फिर भी तहसील प्रशासन की अनदेखी से गांवो के पीडित किसान वंचित रहे। एस डी एम ने माना शासन के आदेश पर त्रुटि नाम व खातो मे संशोधन कराकर 1967 किसानो को लाभ पहुंचाया जा रहा है। हसनगंज तहसील के 514 गांवो के लिये वर्ष 2015 /16 मे सरकार से साढे पैतीस करोड रूपये मिले थे। जिसमे शासन प्रशासन ने आनन फानन पैसा वितरण के चलते क्षेत्रीय लेखपाल व काननूगो के रहमो करम पर निरभर हो गया। गेहू की फसल के बजाय आम बागानो के रकबे बढाकर अपात्रो ने सेटिंग गेटिंग का खेल कर सूखा राहत के पैसा लेने मे बल्ले-बल्ले हो गयी जबकि तहसीलदार को सोलह जून 2016 कोसंदना धीर खेडा बकतौरी खेडा छोटे लाल व राम कैलाश सहित दो दर्जन से अधिक किसानो ने लेखपाल पर उगाही का आरोप लगाकर शिकायत की । वही तहसील की नेवलगंज निवासिनी कंचन ने भी शिकायत की थी कि तहसीलदार क्या करेगे जब तक हम नही चाहेगे तब तक पैसा नही मिलेगा।

हसनगंज के सुरेंद्र सिंह किसान यूनियन अधयक्ष कई बार शिकायते कर चुके है। जिसमे तहसील की सबसे बडी ग्राम पंचायत माखी मे 1/4 भाग किसानो को पैसा नही मिला । जिस पर विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने डीएम से शिकायत करने पर निलंबित किया गया।लेकिन जहां गरीब किसान अधिकारियो व तहसील केचककर काटने के बाद भी मायुस होकर निराश रहना पडा। तहसील के झलोतर, अजगैन, भौली, हैदराबाद, औरास, नवाबगंज, सिद्धनाथ,  कटरा, अलीपुर मिचलौला, झबरा, बिलहौर, मियागंज, सारंगहार, कोटरहा, खानपुर पीर अली, मकसुदशाह सफी, सरा, सरीफाबाद आदि गांवो के किसान भटकते रहे। जब किशान ने एक हेकटेयर पर 6800 सिंचित मे 13500 व असिंचित के लिये 1720 रूपये देने का प्राविधान किया था लेकिन सरकार के सभी नियम कानून लेखपाल के बसते मे दफन हो गये।
इस पर नवागत तहसीलदार अनिल कुमार से पूछने पर बताया मै अभी आया हूँ पहले की जानकारी नही है| बैको मे जिन किसानो के खातेव नाम गलत है । सही कराकर पैसा भेजा जायेगा। वहीं एस डी एम मनीष बंसल ने दावा किया है कि तह सील के 1967 त्रुटि नाम व खाते संशोधन कराकर 15 अप्रैल तक सभी किसानो के खातो मे पै सा पहुंच जायेगा।

रिपोर्ट- राहुल राठौर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here