मिट्टी के तेल की कमी से घर के आँगन में रोशनी करना भी दुश्वार

0
234

बीघापुर(उन्नाव)– गाँवों में गरीब परिवारों को मिलने वाला मिट्टी का तेल इतना कम हो गया है कि महीने भर उनके घर के आँगन में रोशनी करना भी दुश्वार हो रहा है ।साल भर के अंदर प्रति परिवार तीन ली मिलने वाला यह तेल अब घट कर एक लीटर में सीमित होकर रह गया है । अब इन गरीब परिवारों के बच्चों को पढ़ने के लिए जलने वाला चिराग भी गुल हो चुका है जब कि इस समय बेसिक से लेकर उच्च कक्षाओं की सालाना परीक्षा की तैयारी सर पर सवार है । ऐसे समय उन्हें ना पढ़ने के लिए ना तो तेल मयस्सर है ना ही समय पर बिजली ।

क्षेत्र के राशन कार्ड धारकों में अमरपुर आंव निवासी आंनद तिवारी , बेहटा निवासी श्याम अवस्थी , ससान निवासी राजकिशोर ,मगरायर निवासी अवधेश आदि क्षेत्र के नागरिक बताते है आज के लगभग एक साल पहले हम सबको प्रति राशन कार्ड 3 लीटर मिट्टी का तेल मिल रहा था उसके बाद 2 लीटर हुआ अब बीते 2 माह से अब 1 लीटर मिलने लगा है ।

यह ग्रामीण बताते हैं कि मिलने वाले इस मिट्टी के तेल से बामुश्किल 15 दिन केवल शाम को घर परिवार के दैनिक जरूरी कार्य ही हो पाते हैं ।इन हालातो में घर में रोशनी के लिए सौर ऊर्जा की छोटी प्लेट खरीद कर गरीब परिवार घर के अँधेरे को दूर करने की व्यवस्था किये हैं ।अमर पुर आंव के तीन पंचवर्षीय ग्राम प्रधान रहे जमुना प्रसाद त्रिवेदी कहते हैं कि अब गाँव गाँव सैकड़ों गरीब परिवारों के घर की रोशनी को भी सरकार की नीति ने छीन लिया है । विकास खण्ड के ब्लाक वितरक कमलेश लाला व आपूर्ति निरीक्षक के अनुसार एक साल पहले तक ब्लाक क्षेत्र के राशन कार्ड धारकों को एक लाख चार हजार किलोलीटर मिलने वाला केरोशिन तेल घट कर अब बीते तीन माह से 51 हजार किलोलीटर मिल रहा है जिसे प्रति राशन कार्ड एक लीटर ही वितरित किया जा रहा है ।

पहाड़ पुर निवासी कमलापति इंटर कालेज के सेवा निवर्त प्रधानाचार्य राजेन्द्र सिंह कहते है सरकारी अदूरदर्शिता के चलते गरीब परिवारों के बच्चे जिनके पास पढ़ने के लिए घर का चिराग ही सहारा रहा करता था वो भी गुल हो गया है ।इस समय उच्च कक्षाओं की परीक्षाएं शुरू हो चुकी है होली बाद बेसिक व यू पी बोर्ड की भी परीक्षा शुरू होने वाली हैं इस समय इन बच्चों पर परीक्षा की तैयारी करने का समय है पर उन्हें पढने के लिए ना तो केरोशिन ही है ना ही समय पर बिजली ही मिलती है । यहाँ पर यह गौर तलब है कुछ वर्ष पूर्व परीक्षाओं के समय अतिरिक्त मिट्टी का तेल व विद्युत आपूर्ति की जाती थी पर अब ऐसा कुछ भी नहीं हो रहा है ।गाँवों में आज भी सैकड़ों परिवार ऐसे है जिनके पास बिजली कनेक्शन आज तक नही है ऐसी हालत में मिलने वाले मिट्टी के तेल की कटौती गरीब परिवारों पर भारी पड़ रही है ।
क्षेत्र वासियो न छात्रों की परीक्षा की तैयारी हेतु अतिरिक्त मिट्टी के तेल व सुबह शाम विद्युत आपूर्ति किये जाने की माँग की है ।

रिपोर्ट- मनोज सिंह
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here