आरएस यादव के संग करीबियों पर ईडी ने शिकंजा कसा, कई घंटों तक पूछताछ, पुत्र फरार होने में सफल

0
32


वाराणसी (ब्यूरो) जिला जेल में निरुद्ध अरबपति एआरटीओ आरएस यादव के संग उनके करीबियों पर प्रवर्तन निदेशालय ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। बुधवार को ईडी की टीम उनके डीआईजी कालोनी में रहने वाले चाटर्ड एकाउटेंट एसके द्विवेदी के आफिस पहुंची और देर तक कागजात खंगाले। बताया जाता है कि ईडी ने एआरटीओ के करीबी और बिजनेस पार्टनर शराब कारोबारी दिलीप जायसवाल, ड्राइवर और खास राजदार महेन्द्र मौर्या के संग होटल जाकर भी पड़ताल की। छापेमारी का एक पहलू यह भी रहा कि जिस समय ईडी की टीम सीए के यहां मौजूद थी उसी समय आरएस यादव का पुत्र अपूर्व भी फार्च्यूनर से पहुंचा था। वहां की स्थिति देख वह तेजी से भागने में सफल रहा।

कोलकाता की कंपनियां निकली फर्जी
सूत्रों की माने तो आरएस यादव ने कोलकाता के पते पर जिन कंपनियों के जरिये काले धन को सफेद किया है उनमें से अधिकांश फर्जी निकल चुकी है। ईडीने पहले इन्ही पर ध्यान केन्द्रित किया था। इसके बाद निर्णायक कार्रवाई के तहत समूचा गोरखधंधा संभालने वाले सीए के यहां पड़ताल करने का निर्णय लिया गया। ईडी की टीम कई घंटों तक सीए के आफिस में रही लेकिन निकलते समय किसी तरह की टिप्पणी से इनकार कर दिया।

गोरखपुर के मॉल और ससुरालवालों से पूछताछ
बताया जाता है कि ईडी ने कार्रवाई के क्रम में आरएस यादव के ससुरालवालों को भी शामिल कर रखा है। दरअसल गोरखपुर स्थित मॉल का मालिकाना हक सााले के नाम है। ईडी की टीम मॉल पहुंची थी और वहां स्थित बैंक के अलावा गोरखपुर विकास प्राधिकरण से भी आहम दस्तावेज लिये। दूसरे जिन रिश्तेदारों के नाम आरएस यादव ने करोड़ों की सम्पति ले रखी है उनके यहां भी ईडी पहुंची लेकिन वह नहीं मिले।

अहम दस्तावेज हाथ लगे, जल्द होगी कार्रवाई
पिछले कई दिनों होमवर्क के बाद ईडी ने बुधवार को जो कार्रवाई का सिलसिला चालू किया उससे कई अहम दस्तावेज हाथ लगे हैं। माना जा रहा है कि जल्द बेनामी सम्पत्तियों के जब्तीकरण के साथ दूसरी कार्रवाई आरम्भ हो सकती है। आरएस यादव से जुड़े कई चर्चित सफेदपोशों पर भी शिकंजा कसने जा रहा है जिन्होंने काली कमाई में से करोड़ों रुपये अपने कारोबार में लगा रखे हैं।

रिपोर्ट – सर्वेश कुमार यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY