गावं में शिक्षा की अलख जगा रही एकल अभियान योजना

0
167
प्रतीकात्मक

हाजीपुर (वैशाली ब्यूरो)- भारत वर्ष में यों तो विभिन्न संगठनो द्वारा भिन्न – भिन्न विन्दुओंपर कार्य कर रही है| उसी कड़ी में देश की सबसे चर्चित हिन्दुवादी संगठ्न विशव हिंदू परिषद आज गावं- गावं में एकल अभियान के तहत एकल विधालय खोलकर शिक्षा की लौ जलाकर बंचित समाज के बीच प्रकाश बिखेर रही है| विशव हिंदू परिषद के महामंत्री श्याम जी गुप्त के नेतृत्व में संचालित एकल अभियान , जो की प्रमुख रुप से पांच क्षेत्रों में कार्य कर रही है| सबसे प्रथम प्राथमिक शिक्षा -जिसके अन्तर्गत विधालय से बाहर बंचित बच्चे , जिनके अविभावक की आर्थिक स्थिति ठीक नही है| वैसे बच्चों को एकल विधालय से जोड़ कर शिक्षा , स्वास्थ्य व संस्कार की शिक्षा देकर योग्य नागरिक बनाया जाता है| दूसरे क्षेत्रों में आरोग्य शिक्षा आती है जिस में लोगों को स्वस्थ रख कर साफ़-सफ़ाई की जानकारी दी जाती है| तीसरे क्षेत्रों में जाग शिक्षा आता है जिसमें सरकार की कल्याणकारी योजनाओं, सूचना के अधिकार एवं मौलिक अधिकारों की शिक्षा दी जाती है| चौथे में समाज में संगठ्न बना कर एक साथ समूह के साथ रहने की प्रेरणा दी जाती है वहीं पांचवें व अंतिम क्षेत्र संस्कार शिक्षा की आती है !जिसमें समाज के सभी वर्गों को समायोजित कर सत्संग का आयोजन कर विषम्तापूर्ण समाज को एक सुत्र में बाँधने का कार्य किया जाता है|

एकल अभियान को सफल संचालन के लिये पूरे वैशाली जिले में 406 एकल विधालय चल रहे हैं जिले के सभी 16 प्रखंडो को आठ संच में बाँटा गया है जिसके संचालन हेतु एक जिलास्तरिय कमिटि गठिट है| जिसमें अंचल अभियान प्रमुख , हरेन्द्र प्र.यादव , प्राथमिक शिक्षा प्रशिक्षण प्रमुख श्रीमती उर्वशी पटेल गतिविधि प्रमुख , सोनू कुमार , संस्कार प्रमुख कमल राय तथा अध्यक्ष अधिवक्ता संजीत कुमार आदि प्रमुख है|

पातेपुर संच प्राथमिक शिक्षा प्रशिक्षण प्रमुख अभय कुमार मिश्र सत्संग साधक श्रीमती रुना मिश्र , गतिविधि प्रमुख मुकेश कुमार के नेतृत्व में 30 आचार्य के सानिध्य में ग्राम शिक्षा मंदिर संचालित है ग्याण साधना के प्रकाश को फैलने में बबीता कुमारी (चक्दादन ) रुबी कुमारी (विशुनपुर) ब्युटी कुमारी (बिंखरिया ) रश्मी प्रिया (समस्पुरा ) पवन देवी(मिल्की)अर्चना झा (ठकौली ) आदि प्रमुख हैं| संच समीति 33 लोगों की एक समूह द्वारा संचालित है| जिसके मुल्यांकन प्रमुख डा.अशोक कुमार तथा व्यवस्थापक प्रमुख लाल बाबू सिंह को बनाया गया है| संच प्रमुख अभय मिश्र एवं सत्संग प्रमुख रुना मिश्रा ने बताया आज के युग में विग्यानकी शिक्षा तो हर कोई अपने बच्चे को दिला रहा है लेकिन नैतिक शिक्षा का चारों तरफ़ घोर अभाव देखा जा रहा है| वैसे प्रिस्तिथि में एकल विधालय की आचार्य द्वार बच्चों में नैतिक शिक्षा के साथ- साथ संस्कार युक्त शिक्षा देकर उसे सद्चरिता , व्यवहार कुशल योग्य नागरिक बनाया जाता है| एकल की शिक्षा ज्योति एक -एक बंचित बच्चों तक पहुंचे लोगों की ऐसी कामना है|

रिपोर्ट- नसीम रब्बानी

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY