बनारस में ईदगाह की जमीन पर कब्जे को लेकर बवाल

0
66

वाराणसी(ब्यूरो)- प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी की संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रविवार शाम एक स्थानीय भाजपा विधायक के करीबी कहे जाने वाले और चर्चित वकील के द्वारा कथित तौर पर ईदगाह की जमीन पर कब्ज़ा किये जाने के आरोप को लेकर दो पक्षों के बीच जमकर पत्थरबाजी हुई। इस घटना में आधा दर्जन के आसपास घायल होने और दर्जन भर गाड़ियों के शीशे टूटने की खबर थी।

जिसके बाद पुलिस ने भीड़ को खदेड़ने के लिए लाठी चार्ज किया और आंसू गैस के गोले भी छोड़े हैं| घटना के बाद से पूरे इलाके में जबरदस्त तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई । इस दौरान बाउंड्री के पास टीन सेड डाल कर गाय बांध जा रहा था जिसको आग के हवाले कर दिया गया। मौके पर जिलाधिकारी, कमिशनर, एसएसपी समेत पुलिस के तमाम आला अधिकारी मौके पर पहुँच चुके हैं| घटना के बाद शहर में सोशल मीडिया के द्वारा तरह तरह की अफवाहों का बाजार गर्म था, जिसका पुलिस के अधिकारियों ने खंडन किया और ऐसे तत्वों से कड़ाई से निपटने की बात भी कही है। वहीँ मंटू सिंह नाम के वकील के नजदीकियों का कहना था कि कब्जे की बात पूरी तरह से निराधार है गलती दूसरे पक्ष की है।

सोमवार होने की वजह से वाराणसी में रविवार रात्रि में लाखो की संख्या में काँवरिया पहुँच रहे हैं, जिसकी वजह से दुकाने देर रात तक खुली रहती है लेकिन सिगरा इलाके में घटी इस घटना के बाद से सारा बाजार बंद करा दिया गया है। समाचार दिए जाने तक घटना वाले इलाके में भारी पुलिस बल की तैनाती कर दी गई थी। एसएसपी वाराणसी का कहना था कि एक जमीन का टुकड़ा विवादित है उसके बगल में एक वकील साहब साफ़-सफाई और पोताई करा रहे थे तो दूसरे पक्ष को लगा जमीन पर कब्ज़ा हो रहा है जिसके बाद यह विवाद भड़क गया फिलहाल वाराणसी प्रशासन ने बड़ी सूझबूझ के साथ पूरी तरह से नियंत्रण पा लिया है|

रिपोर्ट- रवींद्रनाथ सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here