जीवन में सफलता के लिए संघर्ष  एक मात्र उपाय : के के विश्वकर्मा

0
71


प्रतापगढ़ ( ब्यूरो) नगर पंचायत मानिकपुर स्थित विश्वकर्मा मंदिर पर विश्वकर्मा समाज द्वारा प्रतिभा सम्मान समारोह का आयोजन किया गया जिसमें प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त कर समाज का गौरव बढ़ाने वाली फतेहपुर जनपद की हाई स्कूल की छात्रा तेजस्वी विश्वकर्मा के साथ ही जनपद के मेधावी छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया गया, जिसमें शंकराचार्य स्वामी दिलीप जी महाराज एवं मंदिर पुजारी स्वामी सिद्धांत आचार्य जी महाराज के द्वारा वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विश्वकर्मा विकास परिषद दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष के. के. विश्वकर्मा ने मां सरस्वती एवं भगवान विश्वकर्मा का पूजन अर्चन एवं दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया | जिसके बाद अंजलि विश्वकर्मा द्वारा स्वागत गीत एवं सेवा निवृत शिक्षक श्यामलाल वर्मा व जगदेव विश्वकर्मा द्वारा गीत प्रस्तुत किया गया, इसके बाद अतिथियों द्वारा हाईस्कूल की परीक्षा में प्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली फतेहपुर जनपद की छात्रा तेजस्वी विश्वकर्मा पुत्री शिव स्वरूप विश्वकर्मा, आईसीएसई बोर्ड की हाईस्कूल परीक्षा में जनपद प्रतापगढ़ में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली  यशश्री शर्मा  पुत्री डॉक्टर  पीयूष कांत शर्मा एवं 80 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाली धमोहन कुंडा निवासी शालू विश्वकर्मा पुत्री रामराज विश्वकर्मा, प्रेम राज का पूरवा जमेठी निवासी आदित्य राज विश्वकर्मा पुत्र बुधई लाल, शाहजनी निवासी स्नेहा विश्वकर्मा पुत्री डॉक्टर शिव लाल विश्वकर्मा, टिकरिया बुजुर्ग गांव निवासी विशाखा विश्वकर्मा पुत्री बनवारीलाल विश्वकर्मा, इलाहाबाद जनपद के इब्राहिमपुर मेंडारा निवासी रेनू विश्वकर्मा पुत्री तुलसी राम के साथ ही इंटरमीडिएट में 80 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाली भोला का पुरवा मानिकपुर निवासी अनुराधा विश्वकर्मा पुत्री जगदेव विश्वकर्मा, शहजनी निवासी स्नवी विश्वकर्मा पुत्री डॉक्टर शिव लाल विश्वकर्मा, लाला का पुरवा संग्रामगढ़ निवासी दीप्ति विश्वकर्मा पुत्री राजेंद्र विश्वकर्मा, धनउ का पुरवा निवासी उमा देवी पुत्री राम संत विश्वकर्मा, चौकापारपुर मानिकपुर निवासी नीतू देवी पुत्री रामकृष्ण विश्वकर्मा, दुख छोर का पुरवा निवासी भावना विश्वकर्मा पुत्री सुरेश विश्वकर्मा एवं योगा कार्यक्रम में मंडलायुक्त इलाहाबाद जिलाधिकारी प्रतापगढ़ से सम्मानित शिव देवी पुत्री राम संत विश्वकर्मा समेत समाज के अनेक मेधावी छात्र-छात्राओं को प्रमाण पत्र, मेडल, प्रतीक चिन्ह व अंगवस्त्रम देकर सम्मानित किया गया | साथ ही तेजस्वी विश्वकर्मा को राजश्री ज्वेलर्स कुंडा की तरफ से चांदी का मुकुट भी प्रदान किया गया |

कार्यक्रम में  तेजस्वी विश्वकर्मा  के पिता  विश्व हिंदू परिषद के जिला महामंत्री  डॉक्टर शिवस्वरूप विश्वकर्मा को अंगवस्त्रम प्रतीक चिन्ह माल्यार्पण व छोटी बहन  आरती विश्वकर्मा, पूजा विश्वकर्मा एवं छोटे भाई  को भी  प्रतीक चिन्ह देकर  सम्मानित किया गया ! कार्यक्रम के आयोजकों एवं कमेटी द्वारा आए हुए  सभी अतिथियों का  माल्यार्पण कर स्वागत  एवं  प्रतीक चिन्ह देकर  सम्मानित किया गया ! जिसके बाद वक्ताओं ने  कार्यक्रम को संबोधित किया |

सबसे पहले कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि विश्वकर्मा विकास परिषद दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष के के विश्वकर्मा ने कहा कि जीवन में सफलता के लिए संघर्ष  एक मात्र उपाय हैं । उन्होंने कहा कि कोई भी समाज अपनी प्रतिभाओं को प्रोत्साहित कर आने वाली पीढ़ी के लिए भविष्य का खाका तैयार करती है। उन्होंने मेधावी विद्यार्थियों को आश्वस्त किया कि समाज के लोग मेधावियों की प्रगति के लिए शिक्षा का बेहतर वातावरण बनाने का काम करेंगे। उन्होंने छात्रों को सलाह देते हुए कहा कि सकारात्मक एवं अच्छी सोच के साथ परिश्रम करने पर सफलता की मंजिल तक पहुंचने से कोई रोक नहीं सकता है। विशिष्ट अतिथि कृष्ण मुरारी विश्वकर्मा ने कहा कि मेधावी विद्यार्थियों की सफलता में उनके साथ-साथ उनका परिवार तथा शिक्षकों ने भी एकनिष्ठ होकर प्रयास किया है। शिक्षा जगत में अच्छे एवं कर्मठ अध्यापकों की कमी नहीं है, लेकिन उन्हें कार्य करने का बेहतर वातावरण उपलब्ध कराना होगा। समाज में एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का वातावरण तैयार करना होगा। समाज के लोग अच्छे अध्यापकों एवं प्रतिभाशाली छात्रों को हर सम्भव सहायता एवं माहौल देने का  प्रयास करेंगे।  एडवोकेट लालता प्रसाद विश्वकर्मा ने कहा कि शिक्षा को संस्कारों से जोड़े बिना विकास सम्भव नहीं है। शिक्षा ऐसी होनी चाहिए जो छात्रों को स्वावलम्बी बनाने के साथ-साथ उसके सर्वांगीण विकास में भी मदद करे।  उन्होंने कहा कि समाज में कोई अयोग्य नहीं हो सकता और यदि अयोग्य है तो इसका तात्पर्य वहां कोई मार्ग दर्शक नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि योजक के रूप में शिक्षकों एवं अभिभावकों की भूमिका महत्वपूर्ण हो जाती है। यदि बच्चों की कमी बचपन में ही पहचान कर उनको सही मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित किया जाए तो सफलता निश्चित रूप से मिलेगी।  डॉक्टर शिवस्वरूप विश्वकर्मा ने विद्यार्थियों को सलाह देते हुए कहा कि जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए कभी शाॅर्टकट का सहारा नहीं लेना चाहिए। जीवन में निराशा पैदा करने वाली भावनाओं को दूर कर आशाभाव से आगे बढ़ने के लिए कठोर परिश्रम करना चाहिए। प्रोफेसर सुनील कुमार विश्वकर्मा ने कहा कि जिन  मेधावी छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया जा रहा है, उनमें अधिकांश बालिकाएं हैं। बालिकाएं सभी क्षेत्रों में अच्छा कार्य कर रही हैं। उन्होंने कहा कि बालिकाओं को लेकर समाज के कतिपय लोगों में जो गलत धारणा बन गयी है उसे बदलना होगा। उन्होंने भू्रण हत्या एवं बालिकाओं को विद्यालय न भेजने वालों के कृत्य को निन्दनीय बताते हुए इस धारणा में परिवर्तन की सख्त जरूरत पर बल दिया। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त किया कि समाज में बालिकाएं सभी क्षेत्रों में आगे बढ़ रही हैं। स्पर्धा में अपने को सक्षम बनाते हुए अच्छा स्थान प्राप्त कर रही हैं। इससे स्पष्ट है कि अगर बालिकाओं को बालकों के समान ही अवसर दिया जाए तो वे सभी क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य कर सकती हैं। नगर पंचायत अध्यक्ष मानिकपुर रामनरेश मौर्य फौजी ने कहा कि विश्वकर्मा समाज ने मेधावी छात्र छात्राओं को सम्मानित करके उनके हौसले को बढ़ाने का काम किया है ! जिससे समाज के अन्य छात्र-छात्राएं प्रेरणा लेंगी और वह भी कुछ बेहतर करने का प्रयास करेंगे! उन्होंने कहा कि विश्वकर्मा समाज के मेधावी छात्र-छात्राओं को जब भी जहां भी उनकी जरूरत होगी वह उनके साथ तन मन धन के साथ खड़े रहेंगे | युवा समाजसेवी बबलू विश्वकर्मा ने कहा कि प्रतिभा सम्मान समारोह से समाज के अन्य छात्र-छात्राओं में विकास की सोच विकसित होगी और वह भी परीक्षाओं में बेहतर अंक लाकर समाज का नाम रोशन करेंगे |

जिला प्रभारी बसपा  कमलेश विश्वकर्मा ने कहा कि शिक्षाजीवन का मूल आधार है। निःसंदेह इसके बगैर विकास की कल्पना नहीं की जा सकती है। मिर्जापुर के वरिष्ठ समाज सेवी मेवा लाल विश्वकर्मा ने प्रतिभा सम्मान समारोह के आयोजकों के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि समाज सेवा में शिक्षित, सवंदेनशील सभ्य समाज का प्रतिबिंब झलकता है।विश्वकर्मा सेवा समित इंदिरा नगर लखनऊ की अध्यक्ष निर्मला विश्वकर्मा ने कहा कि सीमांत क्षेत्र में सीमित संसाधनों के बाद भी छात्र-छात्राएं बेहतर प्रदर्शन कर सम्मानित किए गए | यह छात्र-छात्राएं अन्य सहपाठियों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत बनेंगे। उन्होंने छात्र-छात्राओं से भविष्य में शिक्षा के क्षेत्र में अैर बेहतर प्रदर्शन करने की उम्मीद भी जताई है। असिस्टेंट प्रोफेसर आचार्य आलोक विश्वकर्मा ने कहा कि प्रतिभाओं का सम्मान करने से उन्हें आगे बढ़ने का मौका मिलता है।

फतेहपुर के वरिष्ठ समाजसेवी प्रेमनाथ विश्वकर्मा ने कहा कि समाज के लोगों को आगे आकर समाज हित में कार्य करना चाहिए। युवा नेता सोनू विश्वकर्मा समेत अनेक वक्ताओं ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विश्वकर्मा समाज की एकजुटता पर बल दिया। कहा कि लोगों को बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलानी चाहिए। ! कार्यक्रम की अध्यक्षता सेवानिवृत मंडल अभियंता भारत संचार निगम लिमिटेड बंशीलाल विश्वकर्मा एवं संचालन विश्वकर्मा मंदिर  नरियावा के अध्यक्ष गिरीश विश्वकर्मा व पारसनाथ विश्वकर्मा ने संयुक्त रुप से किया!  कार्यक्रम के अंत में आयोजक वरिष्ठ समाजसेवी श्याम लाल विश्वकर्मा एवं सामाजिक कार्यकर्ता / पत्रकार कुलदीप कुमार विश्वकर्मा ने संयुक्त रुप से आए हुए अतिथियों के प्रति आभार जताते हुए मेधावी छात्र-छात्राओं के उज्जवल भविष्य की कामना की ! इस मौके पर राजेश विश्वकर्मा (मुंबई), विजय कुमार विश्वकर्मा( लखनऊ विकास प्राधिकरण), राजकुमार विश्वकर्मा( NTPC ऊंचाहार), संदीप विश्वकर्मा( उत्तर मध्य रेलवे इलाहाबाद), होरीलाल सोनकर, रतिभान मिश्रा, विश्वकर्मा मंदिर धनगर के अध्यक्ष छोटेलाल, गोगहर के अध्यक्ष पारसनाथ विश्वकर्मा,  मानिकपुर के अध्यक्ष राम लखन विश्वकर्मा, पूर्व अध्यक्ष  श्याम लाल विश्वकर्मा, बड़कू विश्वकर्मा, जगदेव विश्वकर्मा, रामसंत, कृपानंद, छेदीलाल, फूलचंद विश्वकर्मा, धनराज, राम कैलाश, राम लखन, रामअजोर, राम सुमेर, भगवती प्रसाद, रामशंकर, पप्पू विश्वकर्मा, सुभाष विश्वकर्मा, डॉक्टर शिव लाल विश्वकर्मा, अमित विश्वकर्मा, राधेश्याम, श्रवण कुमार, आचार्य हरिओम, छेदी लाल विश्वकर्मा, कमला देवी, कृष्णा विश्वकर्मा, सुमन विश्वकर्मा समेत बड़ी संख्या में समाज के गणमान्य लोग मौजूद रहे ! 

रिपोर्ट : विश्व दीपक त्रिपाठी

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY