घर में जो बड़ा वही मुखिया फिर चाहे स्त्री हो या पुरुष : कोर्ट

0
248

Delhi-High-Courtदिल्ली हाईकोर्ट ने एक अहम् मुद्दे पर सुनवाई करते हुए यह फैसला किया है कि जिस घर में बेटी बड़ी होगी वहां मुखिया वही होगी | हाईकोर्ट ने यह फैसला पिता और तीन चाचाओं की मौत के बाद एक लड़की द्वारा अपने चचेरे भाइयों के खिलाफ दर्ज कराये गए मामले में सुनवाई करते हुए दिया है |
इस मामले में भाइयों  ने बिना बड़ी बहन से सलाह – मशविरा किये खुद को परिवार का मुखिया घोषित कर दिया था, जिसे लड़की ने कोर्ट में चुनौती दे दी |
जस्टिस नजिक वज़ीरी ने कहा यदि पहले जन्म लेने पर पुरुष मुखिया बन सकता है तो औरत भी ऐसा कर सकती है, कोर्ट ने कहा मुखिया की गैरमौजूदगी में जो घर में सबसे बड़ा होगा वही घर का कर्ता होगा |
अभी तक न जाने क्‍यों महिलाओं को कर्ता बनने लायक नहीं समझा गया। जबकि आजकल महिलाएं देश के सभी क्षेत्रों में कदम से कदम मिलाकर चल रही है। हालांकि कोर्ट ने माना कि मुखिया में रहते हुए पुरुषों के जिम्‍मे बड़े बड़े काम आ जाते हैं। वे प्रॉपर्टी, रीति रिवाज और मान्‍यताओं से लेकर परिवार के जटिल मुद्दों पर भी अपने फैसले लागू करने लगते हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY