14 जुलाई को केजरीवाल सरकार के भविष्य का फैसला, चुनाव आयोग ने सुनवाई के लिए बुलाया |

0
181

kejriwal_presser

लाभ के पद मामले में विवादों में घिरी केजरीवाल सरकार के 21 विधायकों को चुनाव आयोग ने 14 जुलाई को सुनवाई के लिए बुलाया है, जिसके बाद चुनाव आयोग राष्ट्रपति को अपनी रिपोर्ट सौंपेगा |

केजरीवाल सरकार ने अपने 21 विधायकों को संसदीय सचिव बना दिया जो कि लाभ के पद के अंतर्गत आता है, और विधायकों को विधायिका से अलग करता है | संविधान के अनुसार विधायिका के कुल सदस्यों के केवल 10 प्रतिशत को ही मंत्री या संसदीय सचिव बनाया जा सकता है |

केजरीवाल सरकार ने शुरुआत से ही संविधान का पालन नहीं किया, दिल्ली सरकार में केजरीवाल के अलावां 6 अन्य को मंत्री पद दिया गया साथ ही केजरीवाल ने एक विधायक को अपना संसदीय सचिव नियुक्त कर लिया, केजरीवाल सरकार यहीं नहीं रुकी उन्होंने 21 विधायकों को 6 अन्य मंत्रियों का संसदीय सचिव नियुक्त कर दिया |

इसे भी पढ़ें – आप विधायक दिनेश मोहनिया की जमानत याचिका ख़ारिज|

याचिकाकर्ता प्रशांत पटेल की याचिका पर यह मुद्दा राष्ट्रपति के समक्ष पहुंचा तो राष्ट्रपति ने चुनाव आयोग से राय मांगी | राष्ट्रपति के आदेश चुनाव आयोग ने नोटिस भेजकर केजरीवाल सरकार से स्पष्टीकरण मांगा जिसके जवाब में केजरीवाल सरकार ने चुनाव आयोग के अधिकार क्षेत्र पर सवाल उठाते हुए कि चुनाव आयोग को राष्ट्रपति को सलाह देने का संवैधानिक अधिकार नहीं है |

याचिकाकर्ता प्रशांत पटेल ने आयोग को बताया कि राष्ट्रपति को आयोग से सलाह लेने और आयोग को मामले की पड़ताल कर राष्ट्रपति को सलाह देने का संवैधानिक अधिकार और प्रावधान दोनों है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY