गोष्ठी में दिया कन्या भ्रूण हत्याओं पर रोक लगाने पर जोर

0
147
क्रेडिट- इन्टरनेट

जालौन(ब्यूरो)– अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर सामुदायिक स्वास्थ्य केेंद्र में एक विचार गोष्ठी का आयाजन किया गया जिसमें महिलाओं की उपलब्धियों के साथ कन्या भ्रूण हत्या पर रोक लगाया जाना समाज के लिए आवश्यक बताया गया। सामुदायिक स्वास्थ्य केेंद्र प्रभारी डा. मुकेश राजपूत की अध्यक्षता व महिला चिकित्सक डा. अनुपमा पाल राजपूत, आयुष चिकित्सक डा. सहन बिहारी गुप्ता की उपस्थिति में आयोजित विचार गोष्ठी में डा. राजपूत ने कहा कि सामाजिक संतुलन व प्राकृतिक व्यवस्थाओं के तहत कन्या भ्रूण हत्याओं पर रोक लगाया जाना आवश्यक है। आजादी के 70 साल बाद भी आधी आबादी को वह सम्मान व अधिकार नहीं मिले हैं जिसकी वह हकदार है। पुरुष प्रधान समाज में रहकर महिलाओं ने न केवल बुलंदियों को छुआ है बल्कि अपनी प्रतिभा का लोहा भी मनवाया है।

डा. अनुपमा पाल ने कहा कि महिलाओं के लिए अब कोई ऐसा क्षेत्र शेष नहीं है जहां महिलाओं ने उच्च स्थान न प्राप्त किया हो फिर भी अभी महिलाओं की स्थिति में कोई खास सुधार नहीं हुआ है। डा. सहन बिहारी गुप्ता ने कहा कि एक ओर जहां महिलाएं तरक्की करके आसमान छू रही हैं तो वहीं दूसरी ओर आज भी समाज में कन्या भ्रूण हत्या व महिला शोषण जैसी घटनाएं हमारी रूढि़वादी सोच को उजागर करती हैं। इस रूढि़वादिता को बदला जाना आवश्यक है। इस मौके पर डा. कपिल गुप्ता, डा. योगेश आर्या, डा. अमित सिंह, डा. मोनिका, पीपीएन पंकज कुमार, अनंत प्रकाश, बब्लू सिंह, पीएन शर्मा, अवधेश राजपूत, अखिलेश गुप्ता, नेहपाल सिंह, आरएन वर्मा, समेत समस्त चिकित्सालय स्टाफ व नगर एवं ग्रामीण क्षेत्र की आशा बहुएं उपस्थित रहीं।

रिपोर्ट- अनुराग श्रीवास्तव
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here