स्वतंत्र प्रभार मंत्री के छापे में नदारद मिले कर्मचारी

0
86


बलिया(ब्यूरो): बलिया पहुंचे उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री उपेंद्र तिवारी से जब कार्यकर्ताओं ने भरौली विकासखंड और चिकित्सालय से संबंधित शिकायतों का अंबार लगा दिया तो उनका काफिला इन कार्यालयों के औचक निरीक्षण के लिए निकल पड़ा, दोपहर में कार्यालयों का औचक निरीक्षण करने पहुंचे मंत्री को बीडीओ सहित दर्जनों कर्मचारी अपने कार्यालय से अनुपस्थित मिले।

निरीक्षण के दौरान जगह जगह गंदगी का अंबार देख मंत्री ने अपनी नाराजगी व्यक्त की। वहीं एडीओ पंचायत को लेकर जब उन्होंने ब्लाक परिसर स्थित सामुदायिक शौचालय का निरीक्षण किया तो उसकी बुरी दशा देखकर मंत्री ने फटकारा तो एडीओ पंचायत की घिघी बन्ध गई। मंत्री ने उपस्थिति पंजिका को अपने कब्जे में लेकर ब्लाक परिसर में फैली गंदगी और कर्मचारियों की अनुपस्थिति से जिलाधिकारी बलिया को तत्काल अवगत कराते हुए उचित कार्यवाही करने का निर्देश दिया। वहां से निकले मंत्री ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नरही पर 1:30 बजे छापा मारा जहां निरीक्षण मे 30 कर्मचारियों में से मात्र 9 कर्मचारी ही उपस्थित मिले।

पैथोलॉजी के निरीक्षण मे पहुंचे मंत्री को दवाओं की सीसी एवं डब्बों पर धूल की मोटी परत जमी हुई मिली। जांच यंत्र भी पूरी तरह से जंग खाये हुए थे।
स्टोर के फ्रीज में रखी जाने वाली दवाइयां यूं ही पड़ी हुई थी इस संबंध में पूछे जाने पर कर्मचारी ने बताया कि जब बिजली रहती है तभी फ्रिजर चलता है अन्यथा जनरेटर की सुविधा उन्हें नहीं मिल पाती है।


जनरेटर होते हुए भी आखिर क्यों नहीं चलाया जाता है इस सवाल पर डॉक्टरों ने चुप्पी साध ली। एक्सरे मशीन की दशा को देख कर मंत्री ने जब एक्स-रे एक्सपोर्ट को डांटा तो उसने कहा कि मैं तो सिर्फ 6 महीने से आया हूं यह एक्सरे पिछले 10 वर्षों से बंद पड़ा हुआ है। मरीजों के वार्ड का निरीक्षण करने में मंत्री ने टूटे हुए वेड पर फटा हुआ गद्दा पाया। छत पर पंखे के टूटे फूटे मलबे लटके थे। मंत्री के किसी सवाल का जवाब देने के लिए वहां कोई सक्षम चिकित्सा अधिकारी भी मौजूद नहीं था।

एक मरीज से उन्होंने दवा की उपलब्धता के विषय में पूछा तो उसने बताया कि डॉक्टर साहब लिखते हैं और मैं बाहर से दवा ले कर आता हूं।
तमाम खामियों से व्यथित मंत्री उपेंद्र तिवारी ने जिलाधिकारी बलिया से पुनः एक बार बात किया सीएमएस के द्वारा हॉस्पिटल को तत्काल दुरुस्त करने और इनके कर्मचारियों के विरुद्ध कार्यवाही करने का निर्देश दिया।

रिपोर्ट – सन्तोष कुमार शर्मा

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY