खादी को आधुनिक बनाकर अधिक से अधिक कारीगरों को मिलेगा रोजगार- राज्यमंत्री सत्यदेव पचौरी

0
66

satyadev pachouri

मैनपुरी (ब्यूरो)- प्रदेश सरकार छोटे, कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देकर लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए भरकस प्रयास कर रही है। केन्द्र सरकार से एम.एस.एम.ई. में कोटा बढ़वाने के प्रयास किये जा रहे है। खादी को गांव -गांव पहुंचाकर ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जायेगा। प्रदेश सरकार के प्रयासों से खादी को प्रोत्साहन मिला है।

खादी की विक्री, उत्पादन में 33 प्रतिशत तक की बढ़ोत्तरी हुई है। निकट भविष्य में खादी नये रूप में दिखेगी, चरखे सोलर लाइट से चलेंगे जिससे 8 घण्टे में 3 गुना उत्पादन बढ़ेगा व क्वालिटी भी सुधरेगी। बुनकरों की आय बढ़ेगी निकट भविष्य में कुशल कारीगरों, बुनकरों को पेंशन देने का कार्य भी किया जायेगा।

उक्त उद्गार खादी एवं ग्रामोद्योग, रेशम, हथकरधा एंव वस्त्रोद्योग, सूक्ष्म, लघु एंव मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सत्यदेव पचैरी ने विभागीय अधिकारियों की समीक्षा, प्रेस वार्ता के दौरान व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग द्वारा जो बच्चे हस्तकला, हैन्डलूम का कार्य सीखना चाहेंगें उन्हें निशुल्क प्रशिक्षण देकर जानकारी दी जायेगी। खादी को फैशन डिजाइन से जोड़कर प्रचलित करने का कार्य भी किया जायेगा।

खादी को बढ़ावा देने के लिए चेन्नई की तर्ज पर प्रदेश के बुनकरां को जानकारी, सहायता दी जायेगी। खादी को आधुनिक बनाकर अधिक से अधिक कारीगरों को रोजगार सृजन के अवसर प्रदान किये जायेंगे। खादी से पर्यावरण को प्रदूषित किये विना कुटीर उद्योगों को बढ़ाबा दिया जायेगा। मा. मंत्री जी ने कहा कि प्रदेश के नौजवानों को रोजगार उपलब्ध कराना प्रदेश सरकार की पहली प्राथमिकता है। नौजवानों को नौकरी के साथ-साथ स्वरोजगार से जोड़कर उन्हें स्ववालम्बी बनाया जायेगा। प्रत्येक जनपद में खादी, रेशम, हथकरघा को बढ़ावा देने के लिए जनप्रतिनिधियों को विभाग की जिम्मेदारी सोपी जायेगी। उन्होंने अधिकारियों से कहा है कि विभाग की संचालित योजनाओं, कार्यक्रमों की जानकारी विधायकों, जनप्रतिनिधियों को दें।

योजना में जिन्हें भी लाभान्वित किया जाये उनका विवरण भी जनप्रतिनिधियों को उपलब्ध कराया जाये। उन्हांेने रेशम विभाग के अधिकारी से जानकारी करने पर पाया कि करहल क्षेत्र में 6.5 एकड़ फार्म हाउस है, जिससे वित्तीय वर्ष 2016-17 में 7760 किग्रा रेशम का उत्पादन किया गया। विगत 2 वर्षों में हथकरघा में कोई कार्य नहीं हुआ। इस अवसर पर विभागीय अधिकारियों के साथ विधायक भोगांव रामनरेश अग्निहोत्री, जिलाध्यक्ष आलोक गुप्ता, उपजिलाधिकारी सदर अमित सिंह आदि उपस्थिति रहे।

रिपोर्ट- दीपक शर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here