एसपी ने देखा बलिया में मयखाने का सच

बलिया (ब्यूरो)- पुलिस अधीक्षक सुजाता सिंह ने मंगलवार को तहसील दिवस से लौटते समय दयाछपरा गांव का निरीक्षण किया। इस गांव में पुलिस ने अभी तीन दिन पहले ही शराब के अड्डों पर छापेमारी की थी। इससे गांव में दहशत व्याप्त है। एसपी ने निरीक्षण के दौरान पुलिस को सख्त हिदायत दिया कि किसी भी दशा में अवैध शराब का कारोबार दोबारा शुरू नहीं होना चाहिए। इस गांव के अधिकांश घरों में अवैध शराब का कारोबार बड़े पैमाने में होता है। यहां की निर्मित शराब बिहार तक जाती है।

पुलिस व आबकारी टीम के कई बार की छापेमारी के बाद भी यहां की शराब का धंधा बंद नहीं हो पाया। आजमगढ़ कांड के बाद यहां की भी पुलिस हरकत में आ गई। अवैध शराब शराब के अड्डों पर छापेमारी तेज हो गई। दयाछपरा अवैध शराब का सबसे चर्चित अड्डा है। ऐसे में पुलिस ने सबसे पहले इसी अड्डे का टारगेट बनाया। छापेमारी के बाद फिलहाल कारोबार बंद है।

एसपी सुजाता सिंह द्वारा अवैध शराब के विरुद्घ चलाए जा रहे अभियान के तहत मंगलवार को दोकटी पुलिस ने वाजिदपुर ढाले से वाहन चेकिंग के दौरान एक ट्रैक्टर ट्राली से अवैध शराब बरामद किया। पुलिस ने सुधांशु उर्फ अरविंद सिंह पुत्र स्व. केशव सिंह निवासी वाजिदपुर, थाना दोकटी को 23 पेटी क्वार्टर (1104 शीशी) व 96 फुल बोतल रेस व्हिस्की हरियाणा माडल व ट्रैक्टर ट्राली के साथ गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने धारा 60/63 आबकारी अधिनियम व 207 एमबी एक्ट का अभियोग पंजीत कर अभियुक्त का चालान न्यायालय किया गया। गिरफ्तार करने वाली टीम में उनि लव कुमार सिंह, कां. जय प्रकाश यादव, आशीष यादव, राजेंद्र सिंह बादल शामिल रहे।

एसपी ने सीओ व बैरिया कोतवाल को चेताया कि शराब का कारोबार पूरी तरह से ठप रहना चाहिए। अब अगर कोई इस धंधे को चलाते हुए पकड़ा जाए तो उसके ऊपर सख्त कानूनी कार्रवाई करें। उन्होंने कहा कि इसमें किसी तरह की कोताही न बरती जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here