आजादी के 70 साल बाद भी एक गाँव अँधेरे में

0
53

केराकत/जौनपुर(ब्यूरो)- आजादी के 70 साल बाद भी केराकत ब्लॉक के तरियारी ग्राम सभा में उसरैयाँ के पूरा में अभी तक विकास का पहिया थमा हुआ है। जहा हम मंगल पर जाने की बात कहते है पर अभी भी हमारे यहाँ कुछ गांव के निवासी अँधेरे में अपना जीवन व्यतीत करने को विवश है।

इस गांव के पुरे में ना बिजली के खम्बे है ना तार। इस पूरा में चालीस घर है जिनमें दो सौ लोग अपना जीवन व्यतीत करते है। इस पूरा में यादव व मुसलमान संयुक्त रूप से रहते है। जिनका आजीविका मुख्य रूप से कृषि पर निर्भर है।

ग्रामीणों द्वारा बताया जाता है के इस समस्या से सम्बंधित विभाग को अवगत कराया गया था पर विभाग द्वारा कोई पहल नहीं की गयी। एक समस्या के निस्तारण निस्तारण में पहुचे पूर्व विधायक गुलाब सरोज से भी इस समस्या को लेकर ग्रामीणों ने गुहार लगाया तब उनको विधायक द्वारा पूर्ण आश्वाशन दिया गया था के उनकी समस्या का समाधान जल्द से जल्द किया जायेगा ।

पर सरकार रहते कोई पहल नहीं की गयी।अब ग्रामीण जाये भी तो भला कहा जाये।जिम्मेदारों के कान पर जूँ तक नहीं रेंगती और जनप्रतिनिधियों का आश्वाशन भी कोर झूठा निकलता है।

गांव के निवासी सुनील यादव ,अनिल यादव ,श्रीदास यादव ,करिया खान, बकररल्ली अंसारी, सकरल्ली अंसारी ने अपने पूरा के दुर्व्यवस्था को लेकर सम्बंधित विभाग का ध्यान आकृस्ट कराया है।

दिया तले अँधेरा

बता दें के तरियारी गांव के एक किलोमीटर दुरी पर ही नई बाजार पावर स्टेशन है। जहाँ से क्षेत्र के सभी स्थानों पर विधूत की सप्लाई होती है। ये दुर्भाग्य नहीं तो क्या कहे के सबको विधुत देने वाले क्षेत्र के गांव में ही न खम्बे है ना तार।

रिपोर्ट-अमित कुमार

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY