बाल विवाह में शरीक हर कोई गुनहगार

0
108
प्रतीकात्मक

गोरखपुर(ब्यूरो)- मेडिकल कालेज गोरखपुर के आशा ज्योति केन्द्र मे बाल विवाह रोकथाम के तहत कार्यशाला का आयोजन किया गया| मुख़्यवक्ता तथा मुख्य उप प्रवीक्षा अधिकारी कनकलता सिंह ने कहा कि बाल विवाह एैसा अभिशाप है जिसमें सड़के और लड़कियां दोनों पर बुरा असर पड़ता है|

कार्यशाला के दौरान बाल विवाह प्रतिरोध अधिनियम २००५ के बारे मे भी जानकारी दी गई| बताया गया कि बाल विवाह को पूरी तरह रोकने के लिए भारत सरकार ने बाल विवाह संरक्षण योजना के अन्तर्गत बाल बिवाह प्रतिशेध अधिनियम के तहत बाल कल्याण समिति व ूाल कल्याण अधिकारी को नियुक्त किया है|

बाल विवाह करना, करवाना या उसमें शामिस होना भी जूर्म है| बाल विवाह मे शरीक पुजारी, नाई, बैंड पार्टी, हलवाई तथा वहां प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से मौजूद सभी को दो वर्ष सश्रम कारावास के साथ ही एक लाख रूपये का जुर्माना देना पड़ेगा| कनकलता सिंह ने बताया कि बाल विवाह की सूचना १०९०, १०९८, १०० पर दी जा सकती है| सूचना देने वाले की पहचान को पूरी तरह गुप्त रखा जायेगा|

रिपोर्ट- जयप्रकाश यादव

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY