आजादी में सबकी महत्वपूर्ण भूमिका: शहर काजी

रायबरेली (ब्यूरो)- देश की आजादी में समाज के सभी वर्गो के पूर्वजों की महत्वपूर्ण भूमिका थी। आज मुल्क की एकता-अखण्डता व भाईचारे के लिए सभी वर्ग के लोगों को अपनी भूमिका का निर्वाह करना है। राष्ट्र विरोधी ताकतें मुल्क को लरजते हुए देखना चाहती हैं, उनके मंसूबों को कतई नहीं पूरा होने दिया जायेगा। इस्लाम वतनपरस्ती का संदेश देता है और वतनपरस्ती मुसलमानों के ईमान का एक हिस्सा है।

यह विचार यौम-ए-आजादी विषय पर खिद्मते खल्क सोसायटी द्वारा आयोजित गोष्ठी में काजी-ए-शहर मुफ्ती महमूद अख्तर मिस्बाही ने कही। उन्होनें कहा कि देश की आजादी में कुर्बानियों की शानदार विरासत हमारी अमूल्य धरोहर और प्रेरणाश्रोत है, हमें इसी रास्ते पर चलकर मुल्क को सवाँरना और मजबूती देना है, यह काम सरकारों का नहीं समाज का है और समाज अपने कर्तव्यों को पूरा करे, यही इस गोष्ठी का महत्वपूर्ण सन्देश है। उन्होनें कहा कि स्वतन्त्रता दिवस का जश्न हम सबको मनाना है।

मौलाना तस्सवर अली ने कहा कि मुस्लिम समुदाय आजादी का 70 साला जश्न मनाकर सद्भाव का झण्डा बुलन्द करेगा। गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए हाजी आमिर बेग एवं नायब शहज काजी़, कारी बदरे आलम ने कहा कि स्वतन्त्रता दिवस के अवसर पर झण्डारोहण के साथ अनेक कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। संचालन कारी मुमताज ने किया।

इस अवसर पर हाजी वासिफ कलीम, हाफिज नसीम, शफीक अहमद ‘गज्जन बाबा’, मो0 शरीफ, आसिफ खाँ, मो0 शफीक, मो0 नफीस, इश्तियाक अहमद, जुल्फिकार, इमरान, एैनुल हक, मो0 अनवर, अन्सार, सैय्यद अनवर, साबिर खाँ, मो0 सगीर, इम्तियाज अहमद, मो0 यासीन कुरैशी, निहाल अहमद, जुबैर अहमद, मो0 खालिद आदि मौजूद रहे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY