हर जगह जीत चाहने वाला इंशान भी कही हार चाहता हैं ?

0
1732

जीवन में हर जगह
हम “जीत” चाहते हैं…

सिर्फ फूलवाले की दूकान ऐसी है
जहाँ हम कहते हैं कि
“हार” चाहिए।

क्योंकि

हम भगवान से
“जीत” नहीं सकते।

➖♦➖♦➖♦➖♦➖♦


धीमें से पढ़े बहुत ही
अर्थपूर्ण है यह मैसेज…

हम और हमारे ईश्वर,
दोनों एक जैसे हैं।

जो रोज़ भूल जाते हैं…

वो हमारी गलतियों को,
हम उसकी मेहरबानियों को।

➖♦➖♦➖♦➖♦➖♦


???? एक सुविचार ????

वक़्त का पता नहीं चलता अपनों के साथ…..

पर अपनों का पता चलता है,
वक़्त के साथ…

वक़्त नहीं बदलता अपनों के साथ,

पर अपने ज़रूर बदल जाते हैं वक़्त के साथ…!!!
➖♦➖♦➖♦➖♦➖♦

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here