संविदा कर्मचारी की मौत के बाद मुआवजे के लिए भटक रहे परिजन

मऊरानीपुर/झाँसी(ब्यूरो)- विगत वर्ष पूर्व विद्युत विभाग की लापरवाही के चलते लाइन में काम कर रहे 2 संविदा कर्मचारियों की मौत हो गई थी| तब से लेकर आज तक मृतक के परिजनों को विभाग द्वारा कोई सहायता नहीं दी गई है|

मृतक संतोष की पत्नी माया देवी निवासी चुरारा ने बताया कि 29 6 2016 की सुबह 9रू 30 पर एसडीओ विद्युत विभाग ने संतोष को फोन कर बुलाया था तथा कहा था कि रेलवे फाटक मऊ देहात के पास 11000 की लाइन के तार को जोड़कर ठीक करना है| खंबे पर कार्य कर रहे सहयोगी पूरन अचानक विद्युत करंट लगा जिसे बचाने के लिए संतोष खंबे पर चढ़ा लेकिन विभाग द्वारा विद्युत सप्लाई बंद ना होने से पूरन और संतोष करंट की चपेट में आ गए और धू-धूकर के जलने लगे| जिन्हें घूमती हुई अवस्था में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, जहां से झाँसी रेफर कर दिया था| जहां पर उपचार के दौरान दोनों की मौत हो गई थी| मृत्यु के उपरांत मृतक के परिजन को आज तक कोई मुआवजा एवं परिवारिक लाभ योजना तथा किसी प्रकार की कोई मदद नहीं दी गई है| आश्वासन अनेक दिए गए हैं| मृतक की पत्नी जगह जगह अपने पति की घटती के मुआवजे के लिए अनेक अधिकारियों से मिली लेकिन आज तक कोई कार्यवाही नहीं हो सकी है।

रिपोर्ट- रवि परिहार 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here