रिंग रोड फेज 2 से प्रभावित किसानों और प्रशासन से वार्ता हुई विफल, जुलूस निकालकर भाजपा सरकार के खिलाफ किसानो ने किया नारेबाजी


वाराणसी (ब्यूरो) : आज रिंग रोड फेज 2 से प्रभावित किसानों एवं जिला प्रशासन और राष्ट्रीय राजमार्ग के अधिकारियों के साथ वार्ता दोपहर 12:00 बजे हरदासपुर ब्रह्म स्थान पर शुरू हुई, किसानों का नेतृत्व करते हुए किसान खेत मजदूर कांग्रेस कमेटी के प्रदेश संयोजक विनय शंकर राय “मुन्ना” ने कहा कि भूमि अधिग्रहण कानून 2013 के आधार पर किसानों को वर्तमान सर्किल रेट या उच्च विक्री हुई जमीन के मूल्य का 4 गुना मुआवजा किसानों को दे सरकार , भूमि अधिग्रहण कानून का उल्लंघन कर जबरदस्ती अगर जमीन लेने की कोशिश की जाएगी तो किसान जान दे देगा लेकिन जमीन नहीं देगा, श्री राय ने कहा कि हरदासपुर में वर्तमान समय में जमीन का मूल्य 7:00 से 10 लाख रुपए प्रति बिस्वा है लेकिन प्रशासन केवल ₹300000 मूल्य निर्धारित कर जमीन हड़पना चाह रहा है जो सरासर गलत है । उप जिलाधिकारी से कहा गया कि सरकार वर्तमान बिक्री के आधे रेट से भी कम पर जमीन लेने की जो योजना बनायी हैं वह किसानों के हक अधिकार पर डाका डालना है जिसको किसी भी सूरत पर किसान मान्य नहीं करेगा ।

उप जिला अधिकारी ने प्रस्ताव रखा कि सहमति पत्र देकर सीमांकन करने दीजिए जिला अधिकारी के नेतृत्व में आप लोगों की बात करवा दिया जाएगा जिसपर किसान आक्रोशित होकर सरकार और प्रशासने के खिलाफ नारेबाजी करते हुये सर्वसम्मति से यह निर्णय सुनाये कि सीमांकन के साथ सहमति पत्र तभी किसान देगा जब किसान को वाजिब भूमि अधिग्रहण कानून के आधार पर मूल्य मिलेगा वरना किसान किसी भी सूरत पर जमीन नहीं देगा । उपजिलाधिकारी राजातालाब ने किसानों को भरोसा दिया कि जिला अधिकारी एवं राष्ट्रीय राजमार्ग के उच्च अधिकारियों के साथ जल्द बैठक कराकर किसानों की आपत्ति का निस्तारण कराने की कोशिश करूंगा । किसानों ने दो टूक कह दिया कि या तो हमें वाजिब दाम चाहिए नहीं तो हम खेती करेंगे लेकिन अपनी जमीन नहीं देंगे ।

बैठक में प्रमुख रूप से रामजी सिंह, राजेश सिंह, नारायणी सिंह, मेवा पटेल, प्रेम शाह, विजय गुप्ता, संजय यादव, मनीष सिंह, सत्यम, कल्लू राजभर, दिवाकर सिंह, आशीष सिंह, दिनेश सिंह, शैलेश श्रीवास्तव सहित इत्यादि लोग शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here