नहरों में पानी नहीं आने से किसानों की हालात हो रही दयनीय

0
199


पुरवा उन्नाव : किसान हितौसी होने का ढिडोरा पीटने वाली सरकारो में सबसे ज्यादा अगर कोई परेषान है तो वह है किसान न समय से नहरो मे पानी न बिजली सूबे की सपा सरकार के पूरे कार्यकाल मे नहरो मे पानी नही मिला 2017 के चैथे चरण के चुनाव को देखते हुए जनवरी में षारद नहर में तो पानी दिखाई पडा क्यो कि किसानो से वोट लेना था जब तक मतदान नही हुआ तब तक बिजली थोडा ठीक ठाक आयी मतदान होते ही बिजली भी पहले के जैसा नखरे दिखाने लगी जब किसानों की फसले सीचने के लिये पानी की आवष्यकता है तो नहर सूखी पड़ी है कोई अच्छे दिन लाने की बात करता है कितनी सच्चाई है देष व प्रदेष के पालनहारों की आम जनमानस किसान परेषान है देष व प्रदेष की सरकारों से।

प्राप्त विवरण के अनुसार अगर आज सबसे ज्यादा अगर कोई परेषान है तो वह है अन्नदाता जिसे हम किसान कहते है लगभग दो माह से शारदा नहर में पानी नही छोड़े जाने से किसानों की गेहूं की फसलें सूख रही है हर किसान के पास इन्जन बोरिंग जैसे संसाधन नही है जो माध्यम वर्गीय किसान है वह नहर के सहारे खेती करते है पर समय से पानी न मिलने से कास्तकार परेषान है अगर देखा जाये तो तौरा, मंगतखेड़, रायपुर, बेहटा सुम्हारी, धन्नीपुर, धौरहरा, निद्धाखेड़ा, कसरौर, हुलियाखेड़ा, रामाअमरापुर, चकजमालपुर, धिरजीखेड़ा, चमियानी, अंगनुवाखेड़ा, कटरा, कस्बा टीकरखुर्द, मिश्रीखेड़ा, त्रिपुरारपुर आदि सैकड़ो गांवो के किसान नहर में समय से पानी न छोड़े जाने से परेषान हे उनकी रबी की फसलें सूख रही है यदि समय पर पानी नही आया तो फसले सूख जायेंगी और किसानों के मुंह से निवाला छिनता नजर आ रहा है किसानों में लल्लन खां, अमीन नम्बरदार, लाल मोहम्मद, षहेनषाह, बंषी प्रधान रामापुर गंगाराम लोधी, रामलाल पूर्व प्रधान चकजमालपुर, अलोपी प्रसाद वर्मा, श्रवण कुमार प्रधान, धिरजीखेड़ा, धनीराम प्रधान बिसुनखेड़ा, बहादुर टीकर षब्बीर अहमद चमियानी, सत्येन्द्र सिंह, कललू लालकोट, मुन्ना नम्बरदार पूर्व प्रधान सज्जन लोधी आदि सैकड़ों कास्तकारों ने जिलाधिकारी महोदया अदिति सिंह से षारदा नहर में पानी छोड़े जाने की मांग की है।

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here