सहकारी समितियों पर ताला बंदी से किसान परेशान

0
28

दुबहर/बलिया (ब्यूरो)- रवि की बुवाई का समय होने पर भी क्षेत्र के लगभग आधा दर्जन सहकारी समितियों पर ताले पड़े हुए हैं । आलम यह है कि किसान को मजबूरन खाद बीज के लिए प्राइवेट दुकानदारों के यहां शरण लेनी पड़ रही है । जहां किसानों का जमकर शोषण हो रहा है । चुनाव के पूर्व सभी पार्टियां किसानों के हित की बात करती है लेकिन सत्ता में आने के बाद किसानों के दुख दर्द को राजनीतिक लोग भूल जाते हैं ।

आज रवि की बुवाई के समय क्षेत्र के सैकड़ों गांव में खाद बीज के लिए किसानों को जिला मुख्यालय अथवा प्राइवेट दुकानदारों के यहां कई गुने दाम पर खाद बीज की खरीदारी करनी पड़ रही है वहीं साधन सहकारी समिति अखार पर बरसों से ताला लटका पड़ा है ।

आलम यह है कि एक तो किसानों को बारिश ना होने के चलते खेतों में सूखा पड़ा है जिससे किसान ऐसे ही निराश हैं उन्हें बुवाई से पहले सिंचाई करनी पड़ रही हैं । इसके बाद भी उन्हें खाद बीज के लिए भी तड़पना पड़े यह कहीं से उचित नहीं है जागरूक युवा मंच के लोगों ने संबंधित अधिकारियों से क्षेत्र के साधन सहकारी समितियों को पुनर्जीवित करते हुए उन्हें चालू कराने की मांग की है ।

रिपोर्ट- त्रयम्बक पांडेय गांधी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here