ओडिशा में इसबार एक पिता को कई किलोमीटर तक कंधे पर ढोनी पड़ी बेटी की लाश, एम्बुलेंस ने बीच राह में छोड़ा…

0
183

Image Source - NDTV
Image Source – NDTV

हाल ही में एक ओडिशा में अस्पताल द्वारा एम्बुलेंस की व्यवस्था ना किये जाने पर दाना मांझी द्वारा अपनी पत्नी को कंधे पर १० किलोमीटर पैदल ले जाने के मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि ओडिशा में एक और शख्स को अस्पताल प्रशासन की बेरहमी का शिकार होना पड़ा, और बेटी के शव को कंधे पर उठाकर कई किलोमीटर तक पैदल चलने को मजबूर होना पड़ा |

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार पीड़ित परिवार बेटी को इलाज के लियी जिला अस्पताल ले जा रहा था पर रस्ते में ही लड़की की मौत हो गयी और एम्बुलेंस ड्राईवर को जैसे ही इस बात की भनक लगी उसने परिवार को शव की साथ रास्ते में ही उतार दिया |

आपको बता दें मलकानगिरी के घुसापल्‍ली की रहने वाली बरसा खेमुडू की मौत तब हो गई जब उसके माता-पिता उसे मिथाली अस्‍पताल से एंबुलेंस के जरिए मलकानगिरी जिला अस्‍पताल ले जा रहे थे, बरसा की हालत खराब होने के बाद उसे मिथाली अस्‍पताल से जिला अस्‍पताल रेफर किया गया था | लड़की के पिता ने बताया कि जैसे ही ड्राईवर को पता चला कि लड़की मर गयी है उसने हमसे एम्बुलेंस से नीचे उतर जाने को कहा |

बेटी के शव को कंधे पर रखकर जाते हुए दीनबंधु को जब स्थानीय लोगों ने देखा तो दीनबंधु से पूरी बात जान लेने के बाद गाँव वालों ने स्थानीय बीडीओ और चिकित्सा अधिकारीयों से संपर्क किया और तब कहीं जाकर दूसरी गाड़ी का इंतजाम हो सका |

मामले के संज्ञान में आते ही मलकानगिरी के जिला कलेक्‍टर के सुदर्शन चक्रवर्ती ने मुख्‍य जिला चिकित्‍सा अधिकारी (सीडीएमओ) उदय शंकर मिश्रा को मामले की जांच करने को कहा है, सीडीएमओ ने मलकानगिरी पुलिस थाने में ड्राइवर के साथ ही एंबुलेंस में मौजूद फार्मासिस्‍ट और अटेंडेंट के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है |

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY