पचास हजार व अपाची की मांग पर मँगनी टूटी, धूम धाम से हुआ था वरक्षा

0
202

marrige

खेतासराय/जौनपुर (ब्यूरो)- एक पिता के जीवनकाल का सबसे बड़ा बोझ तभी उतरता है जब वह अपनी लाडली को हँसी ख़ुशी घर से विदा कर देता है लेकिन ऐसा न होने पर उस पर क्या गुजरेगा यह तो सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है, बता दें कि, एक ऐसा ही मामला है खेतासराय थाना क्षेत्र में प्रकाश में आया है।

मैनुद्दीनपुर ग्राम निवासी एक दलित युवक का विवाह सरायमीर थानान्तर्गत बखरां गाँव निवासी एक युवती से तय हुआ था लेकिन विवाह लगन की तारीख नियत नहीं हो पायी थी हाँ इसके लिए कुछ रस्म जरूर पूरी की गयी थी। बड़े ही धूम धाम से पच्चीस जनवरी को तिलक चढ़ाया गया था जिसमें बतौर दान युवती के पिता ने पंद्रह हजार रुपये व फल फूल आदि दिया था।

युवती के पिता ने खेतासराय थाने में तहरीर देकर आरोप लगाया है की वर पक्ष द्वारा पचास हजार रूपये व अपाची दहेज़ मांगी जा रही है ऐसा न कर पाने की स्थिति में शादी तोड़ दी गयी साथ ही मेरे रूपये को नहीं लौटाया जा रहा है।
रिपोर्ट- डॉ.- अमित कुमार पाण्डेय
हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here