बछरावां विधानसभा क्षेत्र में अपने अस्तित्व को बचाने में लगे कई दिग्गज नेता व पार्टियां

0
255

महराजगंज रायबरेली इस बार के विधानसभा चुनाव में सपा कांग्रेस के घटजोड़ ने जहां कई पार्टियों से जुड़े नेताओं का समीकरण बिगाड़ दिया है । वहीं इस बार का विधानसभा चुनाव हर बार के अपेक्षा बिल्कुल अलग ही नजर आ रहा है । इस बार बछरावां विधानसभा सीट पर पार्टी के शीर्ष नेतृत्व वाले चेहरों को पार्टी से टिकट ना देकर बाहरी व नए चेहरों को मैदान में उतारा गया है । जिससे पार्टी बेस पर उम्मीदवारी के लिए लाइन में खड़े चेहरों को कुछ सुझाई नहीं दे रहा है कि वो क्या करें क्या ना करें ? अब उनके आगे अपने अस्तित्व को बचाए रखने के लिए निर्दलीय चुनाव लड़कर जीतना सबसे बड़ी चुनौती बनी हुई है । जिसमें कहीं ना कहीं क्षेत्र का मतदाता असमंजस में जरूर नजर आ रहा है कि वह पार्टी को वोट दें या कभी पार्टी का चेहरा रहे वर्तमान निर्दलीय उम्मीदवार को समर्थन करे । सपा कांग्रेस गठबंधन ने कई दिग्गजों के अरमानों पर मानो पानी फेर दिया । पार्टी बेस पर आसानी से चुनाव जीत लेने का सपना संजोए कैंडिडेटों को पार्टी बेस से टिकट ना मिलने पर चुनाव में मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं । भले ही सपा कांग्रेस का गठबंधन हो गया हो लेकिन कई उम्मीदवारों द्वारा निर्दलीय चुनाव लड़ कर पार्टी बेस पर वोट मांगने का सिलसिला बदस्तूर जारी है । इस मामले में एक सबसे बड़ा सवाल जो निकलकर सामने आ रहा है कि कुछ एक नेताओं को गठबंधन के चलते भले ही टिकट ना मिला हो लेकिन वो निर्दलीय चुनाव लड़ कर पार्टी बेस पर ही मतदाताओं से वोट मांग रहे हैं और चुनाव जीतने के बाद पार्टी को समर्थन करने का एलान कर रहे हैं जिससे बड़ी मात्रा में मतदाता भ्रम की स्थिति में नजर आ रहा है । अब सवाल यह उठता है कि कांग्रेस के पार्टी के साथ यह धोखा नहीं तो और क्या है जब बिना पार्टी सिंबल के ही निर्दलीय प्रत्याशी द्वारा मैदान में पार्टी बेस पर वोट मांगा जा रहा है और मतदाताओं को दिग्भ्रमित किया जा रहा है ऐसी स्थिति में सपा कांग्रेस गठबंधन आखिरकार निराधार साबित होता दिखायी दे रहा है । और इसमें कहीं ना कहीं फायदा अन्य पार्टियों को मिलता जरूर दिखाई दे रहा है । इस मामले में कांग्रेस ने जल्द ही स्थित बिल्कुल साफ न की तो कांग्रेस पार्टी को इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है और मतदाताओं में फैले भ्रम को दूर न किया गया तो इस विधानसभा सीट से कांग्रेस की लुटिया डूबती जरूर दिख रही है।
रिपोर्ट – राजेश यादव/विनय सिंह

हिंदी समाचार- से जुड़े अन्य अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज और आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY